Asianet News HindiAsianet News Hindi

वाराणसी: काशी के घाटों की बढ़ी रौनक, प्रवासी परिंदे पर्यटकों को कर रहे आकर्षित 

काशी के घाटों पर साइबेरियन पक्षियों का आगमन शुरू हो चुका है। इन पक्षियों के आगमन से घाटों की रौनक और भी बढ़ गई है। यह पक्षी नौका विहार के लिए आने वाले पर्यटकों का विशेष आकर्षण हैं। 

Varanasi beauty of the ghats of Kashi has increased birds are attracting tourists
Author
First Published Nov 15, 2022, 2:47 PM IST

अनुज तिवारी
वाराणसी:
काशी में विदेशी मेहमान साइबेरियन पक्षियों का आगमन शुरू हो गया है। यह विदेशी पक्षी घाटों की रौनक को बढ़ा रहे हैं । सर्दियों की शुरुआत और इन पक्षियों का आगमन यहां के पर्यटकों को काफी आकर्षित कर रहा है। नौका विहार करने वाले पर्यटकों के लिए यह आकर्षक का केंद्र भी बन गई है। 

नौका विहार के बिना अधूरा है काशी आगमन
कहा जाता है कि काशी में बाबा विश्वनाथ का दर्शन और गंगा की लहरों में नौका-विहार अगर आपने नहीं किया तो आपका काशी आना अधूरा है। सर्दियों के मौसम में काशी का नौका-विहार और भी मजेदार हो जाता है। काशी के गंगा की लहरों में विदेशी मेहमानों को दाने लिए लोग पुकारते हैं और इन पक्षियों की चहचहाहट नाव के इर्द-गिर्द आपके मन को लुभाती हैं।

पक्षियों को दाना देकर उत्साहित नजर आते हैं लोग
यूं तो काशी से इन साइबेरियन पक्षियों का पुराना नाता है। एक आवाज पर यह परिंदे उड़कर आप के पास चली आती हैं लोग इन पक्षियों को दाना देते समय काफी उत्साहित नजर आते हैं और अपने कैमरे में इन पक्षियों की तस्वीर को कैद करते दिखाई देते हैं। इन पक्षियों के आने के बाद नौका विहार कराने वाले नाविकों की आय में भी वृद्धि होती है लोग नौकायान करके इन पक्षियों को दाने देना है और इन पक्षियों के साथ फोटो खींचाना काफी पसंद करते हैं।

उत्सव में दोगुनी हो जाती है काशी में पर्यटकों की संख्या 
काशी विश्वनाथ धाम बनने के बाद से ही काशी में पर्यटकों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है और काशी के हर एक उत्सव में पर्यटकों की संख्या में दुगनी चौगुनी वृद्धि हुई है। इस बार ठंड में भी उम्मीद लगाई जा रही है कि विदेशी पर्यटकों की संख्या भी काफी ज्यादा होने वाली है। और काशी में ठंड के इस मौसम में नौका चलाने वाले नाविक भी काफी उम्मीद लगाए बैठे हैं कि गर्मियों में तो धूप की वजह से नाव नहीं चला करते थे लेकिन ठंड में लोग इन विदेशी मेहमानों के साथ काशी के गंगा की लहरों में सैर सपाटा करते दिखाई देंगे। सर्दियों के मौसम में वाराणसी में इन पक्षियों की कई प्रजातियां देखने को मिल जाती है। इस दौरान करीब 3 महीने तक साइबेरियन पक्षी यहां प्रवास करते हैं और गर्मियों की शुरुआत के वक्त वापस एक लंबी उड़ान के बाद अपने देश लौटते हैं।

पति की जमानत के लिए महिला ने कागजों पर जिंदा कर दिए मुर्दे, इस तरह से हुआ मामले का खुलासा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios