Asianet News Hindi

क्या है यूपी में मिला कोरोना वायरस का कप्पा वैरिएंट, जानें डेल्टा से कितना खतरनाक है

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के जून के आंकड़ों के अनुसार, भारत में 3,969 अल्फा, 149 बीटा, 1 गामा और 16,238 डेल्टा और कप्पा प्रकार के मामले थे।

What is Covid-19 Kappa variant found in Uttar Pradesh Difference between Delta and Kappa pwa
Author
Lucknow, First Published Jul 9, 2021, 6:54 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ. उत्तर प्रदेश ने कोविड -19 के नए मामले सामने आए हैं। इसे कप्पा  वैरिएंट कहा जा रहा है। इस वैरिएंट की पुष्टि किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज ने की है। 109 सैंपल की जीनोम अनुक्रमण हुए थे। जिनमें से 107 डेल्टा प्लस वेरिएंट केस मिले हैं। कुछ रिपोर्टों में दावा किया गया है कि उत्तर प्रदेश में कप्पा वैरिएंट के तीन तीन मामले सामने आए हैं। संत कबीर नगर निवासी 66 वर्षीय की इस वैरिएंट के कारण मौत हो गई है।

इसे भी पढ़ें- स्कॉटलैंड और कनाडा के बाद ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने बताया फाइजर को कोरोना के डेल्टा वेरिएंट पर 88% असरकारक


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के जून के आंकड़ों के अनुसार, भारत में 3,969 अल्फा, 149 बीटा, 1 गामा और 16,238 डेल्टा और कप्पा प्रकार के मामले थे। B.1.617 पहली बार महाराष्ट्र में देखा गया था और राज्य के कई जिलों में असामान्य वृद्धि से जुड़ा था। मंत्रालय ने इसके बारे में कहा था, डेल्टा या कप्पा को निर्दिष्ट नहीं किया था। शुक्रवार को नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वीके पॉल ने कहा कि भारत में कप्पा संस्करण डेल्टा पर भारी पड़ गया है।

कप्पा क्या है? क्या यह एक नया वैरिएंट हैं?
यह कोई नया वेरिएंट नहीं है। SARS-Cov-2 पर नज़र रखने वाली विश्व स्वास्थ्य संगठन की साइट के अनुसार, भारत में पहली बार अक्टूबर 2020 में कप्पा वैरिएंट का पता चला था। वैरिएंट की पहचान B.1.617.1 के रूप में की गई है, जबकि डेल्टा को B.1.617.2 के रूप में दर्शाया गया है।

क्या यह बड़ी चिंता का विषय है?
WHO ने वर्तमान में इस प्रकार को चिंता के एक प्रकार के रूप में वर्गीकृत नहीं किया है। लैम्ब्डा की तरह, जो पहले से ही दुनिया भर के 30 देशों में फैल चुका है। क्या यह एक डबल म्यूटेंट है? हां, डेल्टा की तरह, कप्पा को दो डबल म्यूटेंट हैं। EE484Q और L452R के कारण डबल म्यूटेंट कहा जाता है।

क्या यह वैरिएंट इम्यून एस्केप है?
यह माना जाता था कि L452R उत्परिवर्तन शरीर की प्राकृतिक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचने के लिए वैरिएंट की मदद कर सकता है। कप्पा वैरिएंट अक्टूबर 2020 में भारत में पाया गया था, यह स्पष्ट है कि ये वैरिएंट के पहले उदाहरण नहीं हैं। यह वैरिएंट कई राज्यों में पाया गया है।

इसे भी पढ़ें-  COVID-19 का नया स्ट्रेन Lambda variant 30 देशों में फैल चुका है, क्या ये डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक है?

डेल्टा और कप्पा के बीच अंतर
B.1.617 के एक ही वैरिएंट से संबंधित दोनों प्रकार हैं। भारत में पहली बार अक्टूबर 2020 में पाए गए हैं। डेल्टा अप्रैल 2021 में सामने आया था और मई 2021 में चिंता का एक रूप बन गया। दूसरी ओर कप्पा का एक प्रकार बना रहा, जैसा कि 4 अप्रैल को अंतिम रूप से सामने आया था। डेल्टा दुनिया भर में एक खतरे के रूप में उभरा है क्योंकि दुनिया में वर्तमान में अधिकांश कोविड -19 मामले डेल्टा वैरिएंट के हैं। भारत में महामारी की दूसरी लहर भी डेल्टा वैरिएंट के कारण ही हुई थी। डेल्टा प्लस, डेल्टा का एक ही एक वैरिएंट है। अब यह भारत सहित कई देशों में है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios