Asianet News Hindi

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करने वाले चिन्मयानंद मामले पर क्यों हैं चुप ? कांग्रेस ने पूंछा सवाल

राजीव त्यागी ने इस मामले में यह भी सवाल भी किया कि सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करने वाले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत चिन्मयानंद के मामले में अब तक खामोश क्यों हैं?
 

Why are Chinmayananda talking about cultural nationalism silent? Congress asked questions
Author
New Delhi, First Published Sep 25, 2019, 8:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयांनद के खिलाफ बलात्कार का आरोप लगाने वाली लड़की की रंगदारी के आरोप में गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर तीखा हमला बोला और सवाल किया कि क्या मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की चिन्मयानंद के साथ साठगांठ है।

पार्टी प्रवक्ता राजीव त्यागी ने इस मामले में यह भी सवाल भी किया कि सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करने वाले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत चिन्मयानंद के मामले में अब तक खामोश क्यों हैं?

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, उत्तर प्रदेश में जिस तरह से अपराधों की ज्वालामुखी फूट रही है वो चिंता का विषय है। जिस तरह से योगी सरकार अपराधियों को शरण दे रही है, वो और भी चिंता का विषय है। उत्तर प्रदेश में अपराधी भयमुक्त है। अपराधी अपराध करने के बाद सरकार की शरण में चले जाते हैं और पीड़ित भयभीत हो जाते हैं। त्यागी ने दावा किया, ‘‘पीड़िता को गिरफ्तार कर लिया गया तो चिन्मयांनद एसी कमरे में आराम फरमा रहे हैं। उन्होंने सवाल किया, चिन्मयानंद पर अब तक बलात्कार की धारा क्यों नहीं लगी? क्या योगी जी की चिन्मयांनद के साथ साठगांठ है? चिन्मयांनद के खिलाफ अब तब बलात्कार से संबंधित धारा क्यों नहीं लगाई गई है? चिन्मयानंद को भाजपा से कब बाहर निकाला जाएगा?

चिन्मयानंद ने यह भी कहा, हम इस मामले में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से भी सवाल करना चाहते हैं जो सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करते हैं। वह इस मामले पर खामोश क्यों हैं? गौरतलब है कि चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली 23 वर्षीय छात्रा को उनसे पांच करोड़ रूपये की रंगदारी मांगने के आरोप में विशेष जांच दल :एसआईटी: ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है । रंगदारी के मामले में तीन आरोपियों को पहले ही जेल भेजा जा चुका है ।

(यह खबर न्यूज एजेंसी पीटीआई भाषा की है। एशियानेट हिंदी की टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios