Asianet News HindiAsianet News Hindi

इस सत्र से योगी सरकार ने बढ़ाया प्राइमरी स्कूल के बच्चों के लिए बजट, किया बड़ा ऐलान

योगी सरकार इस सत्र में यूनिफॉर्म, स्वेटर, जूते-मोजे के साथ ही स्टेशनरी और पेंसिल का पैसा भी देगी। इसके लिए 100 रुपये डीबीटी के रूप में दिए जाएंगे। 1100 रुपये की जगह 1200 रुपये देने की तैयारी है।

Yogi Government increases the budget of primary school student can get school uniform as well as pencil and rubber
Author
Lucknow, First Published Jun 27, 2022, 12:06 PM IST

लखनऊ: योगी सरकार इस सत्र से बच्चों को यूनिफॉर्म, स्वेटर, जूते-मोजे के साथ ही स्टेशनरी और पेंसिल का पैसा भी देगी। इसके लिए 100 रुपये डीबीटी के रूप में दिए जाएंगे। 1100 रुपये की जगह 1200 रुपये देने की तैयारी है। अभी तक सरकार की तरफ से बच्चों को अभी तक कॉपी-पेंसिल के लिए अभिभावकों को अपना पैसा खर्च करना पड़ता था। अभिभावक इसमें रुचि नहीं लेते थे। कुछ जगहों पर शिक्षक अपने निजी प्रयासों से कॉपी-पेंसिल मुहैया करवाते थे, लेकिन अब सरकार ने 100 रुपये इसके लिए अलग से देने जा रही है।

सरकार ने आवंटित किया 1800 करोड़ का बजट
पिछले साल राज्य सरकार ने दो जोड़ी यूनिफार्म के लिए 600 रुपये, स्कूल बैग के लिए 170 रुपये, जूते-मोजे के लिए 125 रुपये और स्वेटर के लिए 200 रुपये दिए थे यानी कुल 1100 रुपये अभिभावकों के खाते में डीबीटी के माध्यम से दिए गए थे। इस संबंध में बेसिक शिक्षा विभाग ने सरकार को प्रस्ताव भेज दिया है। इसका लाभ लगभग पौने दो करोड़ बच्चों को मिलेगा।

इस सत्र से कॉपी-पेंसिल के साथ पेन भी खरीद सकेंगे बच्चे
इस सत्र से योगी सरकार 100 रुपये में विद्यार्थियों को चार कॉपी, दो पेंसिल, दो पेन, दो रबड़ और दो शार्पनर खरीदना होगा। समग्र शिक्षा अभियान के तहत निशुल्क पाठ्य पुस्तकें व अभ्यास पुस्तिकाएं दी जाती हैं, लेकिन बड़ी कक्षाओं में कॉपियों की जरूरत होती थी।

गलतियों को सही करवाने के लिए छात्र पहुंच रहे ग्रीवांस सेल
रिजल्ट आने के बाद यूपी बोर्ड हाई स्कूल और इंटरमीडिएट के छात्र अपनी डिजिटल मार्कशीट डाउनलोड कर चुके हैं। जिसमें अपना नाम, माता-पिता का नाम, जन्म तिथि आदि कई छोटी-छोटी गलतियों को ठीक कराना चाहते हैं। ये तब ही संभव है जब छात्रों को ओरिजिनल मार्कशीट मिल जायेगी। उसके बाद ही छात्र त्रुटियों को ठीक करा पायेंगे। सूत्रों को हवाले से ये पता चला है कि छात्र ग्रीवांस सेल पहुंच रहे अपनी गलतियों को सुधारने के लिए और निराश होकर वापस लौट रहे हैं। उसका कारण है कि छात्रों को अभी तक ओरिजिनल मार्कशीट नहीं मिली है। ओरिजिनल मार्कशीट मिलने के बाद ही ग्रीवांस सेल जाएं और मार्कशीट की डिटेल्स ठीक कराएं।

यूपी बोर्ड के टॉप टेन मेधावियों से सीएम योगी ने आवास पर की मुलाकात

UP Board 12 result 2022: फतेहपुर की दिव्यांशी ने किया टॉप, जानिए कितने मिले नम्बर

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios