Asianet News HindiAsianet News Hindi

शत्रु संपत्तियों पर कब्जा करने वालों पर CM योगी का कड़ा एक्शन, कहा- भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनाएं जीरो टॉलरेंस

यूपी के कई जिलों में स्थिति शत्रु संपत्तियों पर कब्जा करने वालों के खिलाफ योगी सरकार कड़ा एक्शन लेने जा रही है। ऐसे में शत्रु संपत्तियों की स्थिति की एक रिपोर्ट तैयार की जाएगी। वहीं इस अभियान को बढ़ावा देने के लिए नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए जाएंगे। 

Yogi governments strong action on those who occupied enemy properties said adopt zero tolerance policy against corruption
Author
First Published Nov 7, 2022, 9:47 AM IST

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अवैध रूप से कब्जा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करनी शुरू कर दी है। बता दें कि इस अभियान को चलाने के लिए और शत्रु संपत्तियों पर कब्जा करने व अतिक्रमण को हटाने के लिए एक नोडल अधिकारी को भी नियुक्त किया जाएगा। राज्य में मौजूद कुल 5,936 शत्रु संपत्तियों में से 1826 अवैध कब्जे में हैं। सीएम योगी ने बैठक में भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस नीति का पालन करने के सख्त निर्देश दिए हैं। सीएम योगी ने कहा कि राज्य के अलग-अलग जिलों में शत्रु संपत्तियों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार की उपेक्षा के चलते जो भी मूल्यवान संपत्तियां अवैध कब्जे में हैं, उन्हें मुक्त किया जाए।

अवैध कब्जे में इस जिले का नाम सबसे ऊपर 
वहीं यूपी के भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक करीब 1,467 शत्रु संपत्तियों पर माफिया और अन्य का कब्जा है। इसके अलावा करीब 369 पर सह-अधिकारियों का कब्जा है। बता दें कि कांग्रेस, जनता पार्टी, बसपा और समाजवादी पार्टी की सरकार के कार्यकाल के दौरान 424 संपत्तियों पर किराएदारों का कब्जा है और उन पर सिर्फ नाममात्र की दरें लगी हैं। प्रदेश में करीब 2250 शत्रु संपत्तियों पर कब्जा है। वहीं सबसे अधिक अवैध कब्जा करने वाले जिलों में शामली का नाम सबसे ऊपर है। साथ ही लखनऊ सहअधिकारियों द्वारा किए गए कब्जे में सबसे पहले नंबर पर है। लखनऊ में किराएदारों के कब्जे में सबसे ज्यादा संपत्ति है। 

संपत्तियों का किया जाएगा पुनर्मूल्यांकन
इसके अलावा योगी सरकार किराए की संपत्तियों का पुनर्मूल्यांकन भी करने जा रही है। दशकों से किराएदार इन पर अपना कब्जा जमाए हुए हैं। वहीं मौजूदा बाजार भाव को देखते हुए शत्रु संपत्तियों का आकलन भी किया जाएगा। आकलन करने के बाद इन पर किराया दर तय किया जाएगा। वहीं अवैध कब्जे के मामले में सबसे आगे चल रहे जिला शामली में  482 शत्रु संपत्तियां हैं, जिनमें से 268 अवैध रूप से कब्जे में हैं। इसके बाद दूसरे नंबर पर कौशांबी है, जहां पर 456 शत्रु संपत्तियां हैं। इनमें से 197 पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया है। 

सरकारी विभाग को सौंपा जाता है संपत्तियों का स्वामित्तव
वहीं सीतापुर में 378 शत्रु संपत्तियां हैं, जिनमें से 111 अवैध रूप से हैं। योगी सरकार ने राजधानी लखनऊ में 361 शत्रु संपत्तियों की पहचान की है। इसमें 105 किराएदारों के कब्जे में हैं। इसके अलावा मुजफ्फरनगर में 274 शत्रु संपत्ति हैं। जिनमें 85 किराएदारों के कब्जे में हैं। इन संपत्तियों का स्वामित्तव सरकारी विभाग को सौंपा जाता है। इसे भारत में शत्रु संपत्ति के संरक्षक के तौर पर जाना जाता है। बता दें कि वर्ष 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद वर्ष 1968 में शत्रु संपत्ति अधिनियम लागू किया गया था।

टी-20 टूर्नामेंट का उद्घाटन योगी जी ने कुछ इस अंदाज में किया, 10 फोटो में देखिए आज कहां क्या हुआ

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios