Asianet News Hindi

इस महिला के नाम से कांपते हैं यमराज, 102 साल पहले भी आई थी जानलेवा महामारी की चपेट में, अब कोरोना को हराया

कहावत है, जाको राखे साइयां मार सके ना कोय। ऐसा ही हुआ स्पेन की एक 107 साल की महिला के साथ, जिसका कोरोना वायरस कुछ नहीं बिगाड़ सका। 

102 years ago this woman came in the grip of deadly epidemic spanish flu now defeated Corona MJA
Author
Spain, First Published Apr 26, 2020, 9:51 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क। कहावत है, जाको राखे साइयां मार सके ना कोय। ऐसा ही हुआ स्पेन की एक 107 साल की महिला के साथ, जिसका कोरोना वायरस कुछ नहीं बिगाड़ सका। यह महिला 1918 में फैले स्पेनिश फ्लू का भी शिकार हो चुकी थीं। 1913 के अक्टूबर महीने में जन्मी एना डेल वेले तब 5 साल की छोटी बच्ची थीं, जब स्पेनिश फ्लू ने उन्हें अपना शिकार बनाया था। 

स्पेनिश फ्लू से किया मुकाबला
जब ज्यादातर लोग स्पेनिश फ्लू की चपेट में आ कर जान गंवा रहे थे, एना ने इस महामारी से मुकाबला किया और इसके प्रकोप से बच गईं। इस महामारी से उस समय 50 करोड़ लोग प्रभावित हुए थे, जो दुनिया की आबादी का करीब एक-तिहाई हिस्सा था। यह महामारी जनवरी 1918 से दिसंबर 1920 तक रही थी। यूरोप और अमेरिका में इससे करोड़ों लोगों की मौत हो गई थी।

102 साल बाद कोरोना को हराया
स्पेनिश फ्लू से मुकाबला करने के 102 साल बाद 107 साल की एना ने कोरोना को भी हरा दिया। स्पेन के रोंडा की रहने वाली एना डेल वेले अलकाला डेल वेले के एक नर्सिंग होम में रहती थीं। वहां उन्हें 60 दूसरे लोगों के साथ कोरोना वायरस का इन्फेक्शन  हो गया। एना को ला लाइनिया के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां कुछ दिनों के इलाज के बाद वे ठीक हो गईं और उन्हें छुट्टी दे दी गई। एना के अलावा दुनिया भर में सबसे उम्रदराज 107 साल की एक डच महिला कॉर्नेलिया रास भी कोरोना को हरा देने में कामयाब रही हैं।

क्या कहा एना की डॉटर इन-लॉ ने 
एना की डॉटर इन-लॉ पाकी सांचेज ने कहा कि वह अस्पताल के स्टाफ को धन्यवाद देती हैं, जिन्होंने उनकी मदर इन-लॉ की जान बचाई है। उनकी उम्र ज्यादा होने से घर के लोग काफी चिंतित थे, लेकिन उन्होंने कोरोना जैसी महामारी को हरा दिया, जैसे बचपन में स्पेनिश फ्लू को हराया था। वहीं, डॉक्टरों ने एना को सावधानी बरतने के लिए कहा है। पाकी सांचेज ने कहा कि उनकी मदर इन-लॉ अभी ज्यादा खाना नहीं खा पाती हैं, लेकिन वॉकर लेकर वे कुछ दूर सैर करने जाने लगी हैं। खबरों के मुताबिक, स्पेन में 101 साल की दो और महिलाएं भी इस बीमारी से उबर चुकी हैं।

22 हजार से ज्यादा लोगों की हुई मौत
स्पेन में कोरोना महामारी की चपेट में आने से अब तक कुल 22,524 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 92,355 मरीज इस बीमारी से उबर चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना से संबंधित मौतों की संख्या 367 दर्ज की गई, जो 21 मार्च के बाद से सबसे कम संख्या है, जब 324 मौतें हुई थीं। अमेरिका स्थित जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार, दुनिया भर में कोरोना महामारी से अब तक 195,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और इससे 28 लाख, 46 हजार लोग संक्रमित हैं।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios