Asianet News HindiAsianet News Hindi

5 राज्यों के नतीजे : 2011 में BJP की 5 सीटें थीं, 2016 में 64 हुईं; अब 2021 में बढ़कर 147 तक पहुंचीं

प बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को मतगणना हुई। जहां बंगाल में टीएमसी ने हैट्रिक लगाई, वहीं, असम में भाजपा की सत्ता में वापसी हुई। तमिलनाडु में डीएमके 10 साल बाद सरकार में वापस आई।

Election result 2021 Know what bjp gain from these election KPP
Author
New Delhi, First Published May 2, 2021, 4:15 PM IST

नई दिल्ली. प बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को मतगणना हुई। जहां बंगाल में टीएमसी ने हैट्रिक लगाई, वहीं, असम में भाजपा की सत्ता में वापसी हुई। तमिलनाडु में डीएमके 10 साल बाद सरकार में वापस आई। तो केरल में एक बार फिर विजयन सरकार बनी। वहीं, पुडुचेरी एनडीए के खाते गया। ऐसे में जानते हैं कि भाजपा को इस चुनाव में क्या मिला।

10 साल में भाजपा की सीटें 5 से बढ़कर 147 हुईं
जिन 5 राज्यों में चुनाव हुआ, वहां भाजपा की 2011 में सिर्फ 5 सीटें थीं। वहीं, 2016 में बंगाल, असम, तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल में यह बढ़कर 64 हुईं। लेकिन 2021 के इस चुनाव में भाजपा ने अपनी सीटों में दोगुना से ज्यादा इजाफा किया। भाजपा की सीटें बढ़कर 147 हो गईं। 

बंगाल : सत्ता में ना आ सकी, लेकिन सीटें बढ़ीं
बंगाल में भाजपा सत्ता परिवर्तन के इरादे से मैदान में थी। 200 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन भाजपा ने 77 सीटों पर जीत हासिल की। यानी बहुमत के आंकड़े से कोशों दूर। लेकिन इस चुनाव को भाजपा के लिए पूरी तरह से हार भी नहीं कहा जा सकता है। इसका बड़ा कारण ये है कि 2016 में तीन सीटें जीतने वाली भाजपा ना केवल नंबर दो पर पहुंच गई है, बल्कि 77 सीटें भी जीतने में कामयाब हुई। पिछले चुनाव की तुलना में भाजपा का वोट 10.3% से बढ़कर 37.8% हो गया है।


असम : दोबारा सत्ता में आई भाजपा
असम में भाजपा दोबारा सत्ता में आ गई। भाजपा गठबंधन को 78 सीटें मिलीं। वहीं, कांग्रेस गठबंधन ने 46 सीटों पर जीत हासिल की। अन्य के खाते में 2 सीट गईं। यानी असम में भाजपा अपनी सरकार बचाने में कामयाब रही। इतना ही नहीं 2016 की तुलना में भाजपा को 29.8% की जगह इस चुनाव में 32% वोट मिला।


केरल में क्या हुआ ?
केरल में भाजपा खाता तक नहीं खोल सकी। वहीं, 2016 में भी भाजपा को एक भी सीट नहीं मिली थी। हालांकि, भाजपा को 10.6% से बढ़कर 11.6% वोट मिला। 


तमिलनाडु- भाजपा का खाता खुला
यहां भाजपा ने 4 सीटें जीतीं। पिछले चुनाव में भाजपा की एक भी सीट नहीं थी। इसके अलावा भाजपा को इस बार 2.76% वोट मिला। खास बात ये रही कि इस चुनाव में कोयंबटूर साउथ सीट से भाजपा की महिला मोर्चा अध्यक्ष वानती श्रीनिवासन ने कमल हासन को मात दी।  


पुडुचेरी- एनडीए को मिल सकती है सत्ता
पुडुचेरी में एनडीए को पूर्ण बहुमत मिला है। यहां ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस ने 10 सीटों पर जीत हासिल की। वहीं, भाजपा ने भी पहली बार 6 सीटों पर जीतीं। डीएमके को 6 सीटें मिलीं। 6 निर्दलियों ने चुनाव में जीत हासिल की। जबकि कांग्रेस के 2 विधायक जीते। 


क्या है इन चुनाव के भाजपा के लिए मायने
भाजपा बंगाल में कांग्रेस की जगह मुख्य विपक्ष होगी। ऐसे में राज्य में भ्रष्टाचार से लेकर तुष्टीकरण के मुद्दों को सड़क से सदन तक उठा सकेगी। वहीं, असम में भाजपा के दोबारा सत्ता में आने से साफ हो गया है कि भाजपा के खिलाफ एंटी इंकम्बेंसी नहीं है और ना ही मोदी का जादू कम हुआ है। वहीं,  तमिलनाडु में भाजपा को पैर पसारने का मौका मिलेगा। जबकि पुडुचेरी में एनडीए की सरकार आने के बाद केंद्र की योजनाओं का सीधा लाभ मिलेगा। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios