Asianet News Hindi

बंगाल में बोले अमित शाह- वामपंथियों ने यहां उद्योग नहीं लगने दिए, दीदी ने उन्हें भगाने का काम किया

पांच राज्यों-तमिलनाडु, असम, केरल, पुडुचेरी और पश्चिम बंगाल में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के पहले चरण 27 मार्च को पश्चिम बंगाल की 30 सीटों पर गुरुवार को चुनाव प्रचार थम जाएगा। गुरुवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह यहां कई रैलियां करने पहुंचे।

West Bengal assembly election Amit Shahs rally today kpa
Author
Kolkata, First Published Mar 25, 2021, 9:53 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पश्चिम बंगाल. पश्चिम बंगाल की 30 सीटों के लिए पहले चरण के तहत 27 मार्च को वोटिंग होगी। इसके लिए गुरुवार को चुनाव प्रचार थम जाएगा। गुरुवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह यहां रैलियां करने पहुंचे। उन्होंने पुरुलिया जिले के बाघमुंडी के कुसाडी किक्रेट ग्राउंड, झाड़ग्राम जिले के संक्रेल के रगड़ा ब्लॉक के रगड़ा हाईस्कूल, तुमलुक जिले के शांतिपुर के मेचेडा और बिष्णुपुर के टुर्की मठ में चुनाव प्रचार किया।

ममता बनर्जी पर बरसे अमित शाह

  • पुरुलिया जिले में आपको पीने का पानी घर में नल से मिलता है क्या? ममता दीदी आप लोगों को फ्लोराइड युक्त पानी पिलाती हैं। एक बार दीदी को यहां से निकाल दो, 10 हजार करोड़ रुपये के खर्चे से शुद्ध पानी की व्यवस्था बीजेपी सरकार करेगी।
  • अमित शाह ने वामपंथियों पर भी प्रहार किया- यहां पहले वामपंथियों ने उद्योग स्थापित नहीं होने दिए। फिर दीदी ने उद्योगों को भगाने का काम किया। टीएमसी हो या वामपंथी, ये रोजगार नहीं दे सकते। अगर रोजगार चाहिए, तो यहां एनडीए की सरकार बनाइए।
  • पश्चिम बंगाल के विकास के लिए ममता सरकार के पास कोई ब्लूप्रिंट नहीं है। एक वक्त था दुनियाभर में पुरुलिया का सिल्क प्रसिद्ध था। लेफ्ट पार्टियों की सरकार ने सिल्क इंडस्ट्रीज को बंद करा दिया। दीदी उनसे भी आगे निकलीं। उन्होंने बंगाल की धरती से सिल्क इंडस्ट्रीज से जुड़ी कंपनियों को ही भगा दिया। लेफ्ट और ममता दीदी बंगाल और पुरुलिया के युवाओं को नौकरी नहीं दे सकती हैं।
  • भाजपा की सरकार ने तय किया है कि जैसे ही भाजपा की सरकार बनती है तो हर किसानों के खाते में एक साथ 18,000 रुपये भेजने का काम करेगी।
  • हमने 250 BPO के जरिये यहां के आदिवासी और कुर्मी भाइयों को नौकरी देने का वादा किया है। हर घर मे 5 साल में कम से कम एक रोजगार भाजपा की सरकार देगी।
  • आप लोगों को गंभीर बीमारी आने पर कोलकाता जाना पड़ता है। हमने तय किया है कि जंगलमहल में हम नया एम्स बनाकर आदिवासी और कुर्मी भाइयों को स्वास्थ्य की आधुनिक सुविधाएं देंगे।
  • दीदी को डर है कि अगर स्वास्थ्य का 5 लाख रुपये आपके घर पहुंच गया, तो मोदी जी लोकप्रिय हो जाएंगे। मैं आपसे कहने आया हूं कि 2 मई को दीदी को हटा दीजिए तो 3 मई से हर गरीब को 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य का पूरा खर्चा बीजेपी की सरकार देगी।
  • मोदी जी चाहते हैं कि चुनाव आपके कल्याण के लिए हो। दीदी अपने भतीजे को अगला मुख्यमंत्री बनाने के लिए चुनाव चाहती हैं। क्या आप भतीजे को अपने सीएम के रूप में चाहते हैं या बंगाल में विकास चाहते हैं?
  • मोदीजी देश में 115 स्कीम लाए, लेकिन बंगाल में दीदी 115 स्कैम लाए। हमारी सरकार ने लोगों के घर में बिजली पहुंचाई, शौचालय बनवाए, पानी पहुंचाया, लेकिन दीदी ने स्वास्थ्य के पांच लाख रुपए का लाभ तक लोगों को नहीं लेने दिया।
  • अगर टीमएससी की कटमनी को हटाना है, तो बंगाल में भाजपा की सरकार बनानी पड़ेगी। भाजपा की सरकार बनते ही छात्राओं को स्कूल की फीस नहीं देनी पड़ेगी। मुफ्त में शिक्षा मिलेगी।
  • हमारी सरकार बनी तो शरणार्थियों को नागरिकता दी जाएगी। बंगाल में घुसपैठियों को आने नहीं दिया जाएगा।
  • जब तक दीदी हैं, तब तक मलेरिया और डेंगू नहीं जाएगा, दीदी की मलेरिया और डेंगू से दोस्ती है। आप दीदी को हटा दो, कमल फूल की सरकार डेढ़ साल के अंदर मलेरिया को यहां से समाप्त कर देगी।
  • दीदी ने मासूम आदिवासियों को 'खेला होबे' से डराया है, लेकिन क्या वह नहीं जानती कि एक छोटा बच्चा भी यहां फुटबॉल खेलता है। दीदी कोई भी आपके 'खेला होबे' से नहीं डरता है। हमें वोट दें, मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि दीदी के गुंडे आपको नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे।
  • हम हर मछुआरे के बैंक अकाउंट में 6,000 रुपए देंगे। हर किसान के बैंक अकाउंट में चेक के जरिए 18,000 रुपए डालेंगे। पूरे देश के किसानों को 18,000 रुपए मिल गए हैं लेकिन बंगाल के किसानों को ममता बनर्जी 18,000 रुपए मिलने नहीं देती हैं।
    ममता बनर्जी के राज में दुर्गा पूजा करने के लिए कोर्ट में जाना पड़ता है। एक बार कमल के निशान पर बटन दबा दो, 2 मई के बाद किसी की ताकत नहीं होगी दुर्गा पूजा को रोकने की।
  • हमने कहा कि बंगाल के हर बच्चे को बांग्ला सीखनी होगी। दीदी(ममता बनर्जी) इसका विरोध कर रही हैं, क्योंकि वो उर्दू में पढ़ाना चाहती हैं। वोट बैंक के लिए बंगाली भाषा के सम्मान के साथ अब खेला नहीं होगा दीदी


जानें कब चुनाव
बता दें कि बंगाल की 294 सीटों के लिए 8 चरणों में वोटिंग होगी। पहले चरण में  294 में से 30 सीटों पर 27 मार्च को वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण में 30 सीटों पर एक अप्रैल को, तीसरे चरण में 31 सीटों पर 6 अप्रैल को, चौथे चरण में 44 सीटों पर 10 अप्रैल को, पांचवे चरण में 45 सीटों पर 17 अप्रैल को, छठे चरण में 43 सीटों पर 22 अप्रैल को, सातवें चरण में 36 सीटों पर 26 अप्रैल को और आठवें चरण में 35 सीटों पर 29 अप्रैल को वोटिंग होगी।

 

 

 

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios