Asianet News Hindi

Assam/Bengal Election: शाह ने बंगाल में बताया गुंडाराज, गुवाहाटी में कहा-कांग्रेस की गोद में अजमल बैठा है

पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीति पार्टियां युद्धस्तर पर प्रचार-प्रसार में जुट गई हैं। रविवार को असम और पश्चिम बंगाल के दौरे पर पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का सोमवार दौरे का दूसरा दिन है। लेकिन रविवार को बंगाल के खड़गपुर में उनके हेलिकॉप्टर में तकनीकी खराबी आ जाने से वे झारग्राम की रैली में नहीं पहुंच पाए। यहां ऑनलाइन संबोधन का सहारा लेना पड़ा।

West Bengal elections, second day of Union Home Minister Amit Shah visit of Assam and Bengal kpa
Author
Guwahati, First Published Mar 15, 2021, 9:47 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोलकाता, पश्चिम बंगाल. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को पश्चिम बंगाल और असम में चुनावी रैलियां कीं। शाह का इन दोनों राज्यों में चुनावी दौरे का सोमवार को दूसरा दिन है। इस बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने असम में भाजपा का प्रचार किया। गुवाहाटी में अमित शाह ने कहा कि 20-25 सालों से हम मानते ही नहीं थे कि आंदोलन, हिंसा, घुसपैठ और आतंकवाद के बगैर असम हो सकता है। असम के अस्मिता की बात करने वाले घुसपैठ तक नहीं रोक पाए, असम की अस्मिता को क्या खाक बचाएंगे। आपकी गोदी में अजमल बैठा है और असम के अस्मिता की बात करते शर्म नहीं आती।

जानें यह भी
अमित शाह पश्चिम बंगाल में पूरी ताकत झोंक रहे हैं। रविवार को उन्होंने बंगाल के खड़गपुर में मेगा रोड शो और असम के तिनसुकिया में रैली निकाली थी। सोमवार को अमित शाह झारग्राम में रैली निकालने वाले थे, लेकिन खड़गपुर में उनके हेलिकॉप्टर में तकनीकी खराबी आ गई थी। इससे वे झारग्राम की रैली में नहीं पहुंच पाए। इसलिए यहां रैली को संबोधित करने ऑनलाइन का सहारा लेना पड़ा। शाह ने रानीबांध में भी रैली को संबोधित किया। शाम को असम के गुवाहाटी पहुंचे। गुवाहाटी के टाउनहाल में उन्होंने एक सभा ली।

झारग्राम में बोले शाह

  • बंगाल में आज गुंडाराज, TMC ने बंगाल को बिगाड़, ममता सरकार विकास में बाधक है। ममता ने बंगाल को तहस-नहस किया। टीएमसी की सरकार हटाकर रहेंगे। गुंडाराज से मुक्त करेंगे।
  • मोदी सरकार ने 10 साल के दीदी के शासन में 115 से ज़्यादा योजनाएं पहुंचाई, ये योजनाएं आप तक नहीं पहुंच रही हैं। इसका सबसे बड़ा रोड़ा तृणमूल की सरकार है।
    बंगाल में 10 साल से TMC की सरकार ने बंगाल को पाताल तक नीचे ले जाने का काम किया है। हर चीज में भ्रष्टाचार, टोलबाजी, राजनीतिक हिंसा, घुसपैठ ने पूरे बंगाल के विकास को तहत-नहस कर दिया है।
  • शाह ने कहा 'आज मैं झारग्राम में प्रचार के लिए आने वाला था, लेकिन दुर्भाग्य से मेरा हेलीकॉप्टर क्षतिग्रस्त हो गया। मैं आप लोगों के दर्शन करने के लिए उपस्थित नहीं हो पाया।'
    पिछले 10 सालों में टीएमसी सरकार ने बंगाल को नए मुकाम पर पहुंचाया है। भ्रष्टाचार, राजनीतिक हिंसा, ध्रुवीकरण, हिंदुओं और एससी/एसटी को अपने त्योहारों को मनाने के लिए अदालतों में जाना पड़ा। टीएमसी इस तरह की स्थिति राज्य में लाए हैं, जिससे राज्य में विकास बर्बाद हो रहा है।
    एक समय बंगाल भारत का लीडर था। बंगाल शिक्षा, स्वतंत्रता सेनानियों, धार्मिक नेतृत्व का केंद्र था। आज यही बंगाल गुंडाराज में उलझा हुआ है। 
    शाह ने रैली में मौजूद लोगों से कहा कि वे आदिवासी भाइयों से कहना चाहते हैं कि आज एक संकल्प करके जाइए कि हमारे विकास में जो सरकार आड़े आ रही है, उसे हटाकर ही हम दम लेंगे।
    शाह ने ऐलान किया कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनने के बाद आदिवासी छात्रों के अवसरों में सुधार लाने के लिए पंडित रघुनाथ मुर्मू ट्राइबल यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी। स्टैंड अप इंडिया योजना में 100 करोड़ रुपये का निवेश होगा। 

बांकुरा में बोले शाह

  • आज मेरा हेलिकॉप्टर खराब हो गया, लेकिन मैं इसमें किसी की साजिश नहीं बताऊंगा। चुनाव आयोग कह रहा है कि उन्हें लगी एक चोट हादसा थी, जबकि ममता बनर्जी का कहना है कि इसके पीछे साजिश थी। चोट कैसे लगी, इसका पता नहीं चला है। टीएमसी इसके पीछे साजिश बता रही है, लेकिन चुनाव आयोग का कहना है कि यह एक हादसा था। 
  • दीदी आप पूरे पश्चिम बंगाल में व्हीलचेयर पर घूम रही हैं। आपको अपने पैर की चिंता है, लेकिन हमारे 130 कार्यकर्ताओं की माताओं के लिए कोई दर्द नहीं है, जिनके बच्चों को मार डाला गया।
  • रानीबंध में शाह ने कहा- हमें आशा थी कि कम्यूनिस्ट शासन जाने के साथ ही बंगाल से राजनीतिक हिंसा समाप्त हो जाएगी। मगर राजनीतिक हिंसा बढ़ गई। भाजपा के 130 से ज्यादा कार्यकर्ता मार दिए गए।

असम के सोनितपुर में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा

  • ये गारंटी है कि कांग्रेस आएगी तो घोटाला ही करेगी। उनका मिशन है कमीशन और हमारा ध्येय है मिशन। हम मिशन से काम करते हैं। ये लोग खड़े होकर बोलते हैं कि हम भारत को बढ़ाएंगे। अरे अपनी पार्टी की चिंता कर लो यह ही बहुत है बाकी मोदी जी पर छोड़ दो।
  • गुवाहाटी में एम्स बन रहा है। मोदी जी ने असम को बाढ़ से बचाने के लिए 4 गुना ज्यादा पैसा दिया है। इस साल बजट में असम के विकास के लिए 53 हजार करोड़ रुपये दिए गए। 35 हजार करोड़ रुपये राष्ट्रीय राजमार्ग बनाने के लिए दिया गया
  • असम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बोले- मैंने ताजपुर में पोर्ट बनाने का निर्णय किया था। अगर वह पोर्ट बन जाता, ममता बनर्जी सहयोग करती तो इस ज़िले में कोई भूखमरी और बेरोज़गारी नहीं होती। आप चिंता मत करिए। आप भाजपा को शासन दीजिए। हम ताजपुर में बढ़िया पोर्ट बनाकर देंगे।

असम में बाेले मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह

  • असम के नाहरकटिया में चुनावी रैली में बोले मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 
  • कांग्रेस पार्टी केवल SRP बनकर रह गई है, एस मतलब सोनिया गांधी, आर मतलब राहुल गांधी और पी मतलब प्रियंका गांधी। SRP का मतलब होता है सर्प, कांग्रेस सर्प पार्टी बनकर रह गई है।
  • डिब्रूगढ़ में चौहान- कांग्रेस के जमाने में असम को विकास के लिए केवल 50,000 करोड़ रुपये मिलते थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम को विकास के लिए 3,00000 करोड़ रुपये दिए हैं। बदरुद्दीन से गठबंधन करके कांग्रेस ने तरुण गोगोई जी का अपमान किया है।
    कांग्रेस ने असम को बदरुद्दीन अजमल दिया। ये वो आदमी है, जो  घुसपैठ करवाता था और नफरत फैलाता था। अजमल असम की फिजाओं में जहर घोलने का काम कर रहा है। तरुण गोगोई भी इसको पसंद नहीं करते थे। जो देश को बांटने और मुस्लिम राष्ट्र बनाने की बात करते थे उनके साथ कांग्रेस का गठबंधन है। कांग्रेस ने असम को घुसपैठिए, खूनखराबा, हिंसा और आतंकवाद दिया। भाजपा सरकार ने विदेशी घुसपैठ को रोक दिया है। कांग्रेस ने असम को हिंसा की आग में झोंका और भाजपा ने शांति और स्थिरता प्रदान की।

जानें कब चुनाव
बता दें कि बंगाल की 294 सीटों के लिए 8 चरणों में वोटिंग होगी। पहले चरण में  294 में से 30 सीटों पर 27 मार्च को वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण में 30 सीटों पर एक अप्रैल को, तीसरे चरण में 31 सीटों पर 6 अप्रैल को, चौथे चरण में 44 सीटों पर 10 अप्रैल को, पांचवे चरण में 45 सीटों पर 17 अप्रैल को, छठे चरण में 43 सीटों पर 22 अप्रैल को, सातवें चरण में 36 सीटों पर 26 अप्रैल को और आठवें चरण में 35 सीटों पर 29 अप्रैल को वोटिंग होगी। वहीं, असम की 126 विधानसभा सीटों के लिए तीन चरणों में चुनाव होना है। पहले चरण के लिए 27 मार्च का वोटिंग होगी। इसमें 47 सीटें हैं। दूसरे चरण में 39 सीटों पर एक अप्रैल का वोट डाले जाएंगे। तीसरे और अंतिम चरण में 40 सीटों के लिए 6 अप्रैल को वोटिंग होगी। सभी की गिनती अन्य चार राज्यों-पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी के साथ 2 मई को होगी। असम में विधानसभा का कार्यकाल 31 मई को खत्म हो रहा है। 2016 में हुए चुनाव में भाजपा ने 15 साल से यहां सत्तारूढ़ कांग्रेस को शिकस्त दी थी। तब भाजपा को 86 सीटें मिली थीं।

 

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios