Asianet News Hindi

कोरोना वायरसः भारतीय वायुसेना ने 112 लोगों को निकाला बाहर, सभी को सेना के कैंप में किया गया शिफ्ट

वुहान शहर से निकाले गए 76 भारतीयों और 36 विदेशियों को गुरुवार की सुबह अलग रखने के लिए आईटीबीपी के एक केंद्र में ले जाया जा गया।‘‘बचाए गए लोगों को हवाईअड्डे पर थर्मल जांच प्रक्रिया से गुजरना होगा जिसके बाद उन्हें छावला इलाके में हमारे केंद्र में अलग रखा जाएगा।’’

All 112 people were resuscitated from Wuhan,will be under the supervision of doctors kps
Author
New Delhi, First Published Feb 27, 2020, 2:00 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नयी दिल्ली. कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान शहर से निकाले गए 76 भारतीयों और 36 विदेशियों को गुरुवार की सुबह अलग रखने के लिए आईटीबीपी के एक केंद्र में ले जाया जा गया। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘बचाए गए लोगों को हवाईअड्डे पर थर्मल जांच प्रक्रिया से गुजरना होगा जिसके बाद उन्हें छावला इलाके में हमारे केंद्र में अलग रखा जाएगा।’’

76 भारतीय समेत 112 लोग लाए गए भारत 

भारतीय वायु सेना (आईएएफ) का सी-17 ग्लोबमास्टर 3, 76 भारतीय समेत 112 लोगों को लेकर आया। इनमें 23 नागरिक बांग्लादेश, छह चीन के, म्यामांर और मालदीव के दो-दो तथा दक्षिण अफ्रीका, अमेरिका तथा मेडागास्कर के एक-एक नागरिक शामिल हैं।

इससे पहले 650 भारतीयों को किया गया था रेस्क्यू

सेना का हेलीकॉप्टर बुधवार को वुहान भेजा गया और वह चीन में कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों के लिए 15 टन चिकित्सा आपूर्ति लेकर गया। इससे पहले भारत ने वुहान से निकाले करीब 650 भारतीयों को आईटीबीपी के केंद्र और मानेसर में सेना के एक अलग केंद्र में रखा गया था।

कड़ी निगरानी में रहेंगे सभी 112 लोग 

कोरोना वायरस की जांच में ये सभी लोग नेगेटिव पाए गए और उन्हें एक पखवाड़े से अधिक समय तक अलग रखे जाने के बाद घर जाने दिया गया। आईटीबीपी प्रवक्ता ने बताया कि डॉक्टर, पराचिकित्सक तथा अन्य लोगों की टीम केंद्र में 24 घंटे मौजूद रहेगी और वहां रहने वाले लोगों को भोजन, बेड तथा समय बिताने के लिए अंदर मनोरंजन के साधन उपलब्ध कराए जाएंगे।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios