वॉशिंगटन. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की तैयारी जोरों पर हैं। ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप के नाम जहर भरा एक पार्सल भेजा गया, जो कि पुलिस के हाथ लगा है। खास बात ये है कि ये पार्सल ट्रंप के नाम पर ही है। इस पैकेज में रिसिन नाम का जहर होने का संदेह है जिसकी पुष्टि के लिए दो-दो जांच की जा चुकी है। दरअसल, इस खबर की जानकारी अमेरिका के एक न्यूज चैनल ने पुलिस अधिकारियों के हवाले से दी है। 

अमेरिकी राष्ट्रपति भवन वाइट हाउस को भेजी गई हर चिट्ठी या पार्सल की छंटनी कर जांच की जाती है। जांच में कोई संदेह नहीं रहने पर ही उसे आगे वाइट हाउस तक भेजा जाता है।

कनाडा से भेजा गया है पार्सल 

अमेरिका की कानून प्रवर्तन एजेंसी के एक अधिकारी के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि पैकेज संभवतः कनाडा से भेजा गया है। इसकी पुष्टि के लिए जांच जारी है। 'द फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन' (FBI) और सीक्रेट सर्विस मामले की जांच कर रही है। एफबीआई के अधिकारी ने एक न्यूज चैनल को बताया कि 'एफबीआई और हमारी सीक्रेट सर्विस और अमेरिकी पोस्टल इंस्पेक्शन सर्विस मिलकर मामले की जांच कर रहे हैं। फिलहाल, आम लोगों के लिए किसी तरह के खतरे का कोई संदेह नहीं है।'

आतंकवादी हमले के लिए किया जाता है इस जहर का इस्तेमाल 

रिपोर्ट्स में बताया जाता है कि रिसिन बेहद घातक तत्व होता है। इसे कास्टर बीन्स से निकाला जाता है। इसका इस्तेमाल आतंकवादी हमलों में किया जा चुका है। इसे पाउडर, मिस्ट, पेलेट या एसिड के रूप में उपयोग में लाया जा सकता है। रिसिन जहर खा लेने पर व्यक्ति को उल्टियां आती हैं, पेट और आंतों के अंदर से खून का रिसाव होने लगता है, लीवर, स्प्लीन और किडनी फेल होने लगते हैं और आखिर में इंसान का पूरा सर्कुलेटरी सिस्टम ही ठप्प पड़ जाता है, जिससे उसकी मौत हो जाती है।