इस्लामाबाद. 2008 मुंबई हमलों की साजिश रचने वाले आतंकियों में शामिल साजिद मीर पाकिस्तान में पिछले 12 साल से खुलेआम घूम रहा है। जबकि उसे अमेरिका की जांच ब्यूरो (एफबीआई ) ने वॉन्टेड लिस्ट में रखा है। पाकिस्तान के लश्कर ए तैयबा के आतंकियों ने 2008 में 26 नवंबर को मुंबई में हमलों को अंजाम दिया था। इसमें करीब 170 लोगों की मौत हो गई। इस हमले में 6 अमेरिकियों की मौत हो गई थी। अब अमेरिका ने साजिद मीर पर 50 लाख डॉलर का इनाम रखा है।  

कई देशों में हमलों की साजिश रचने का आरोप
जिहाद वॉच वेबसाइट के मुताबिक, पाकिस्तान में होने के बावजूद कोई भी पाक जांच एजेंसी उसका पता नहीं लगा सकी। यहां तक की पाकिस्तान के लोग भी उसके बारे में पूछे जाने पर कोई जानकारी नहीं देते। मीर पर अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, डेनमार्क और यूके में कई हमलों की साजिश रचने का आरोप है। 

12 सालों से साजिद मीर की तलाश
अमेरिका को साजिद मीर की पिछले 12 सालों से तलाश है। अमेरिका ने मीर पर 50 लाख डॉलर का इनाम घोषित किया है। मीर पाकिस्तान के लाहौर का रहने वाला है।  26/11 हमले की जांच के दौरान ही साजिद मीर का नाम सामने आया था। मीर लश्कर ए तैयबा का आतंकी है। 

एफबीआई की वेबसाइट पर साजिद मीर की कई हुलिए की तस्वीरें हैं। उसे चेहरे बदलने में माहिर माना जाता है। जांच एजेंसियों का भी मानना है कि वह पाकिस्तान में ही छिपा है। 

16 साल की उम्र में जुड़ा था लश्कर से
जिहाद वॉच की रिपोर्ट के मुताबिक, साजिद मीर के बारे में लोगों को ज्यादा नहीं पता। यहां तक की उसके बारे में पिछली बातें भी फर्जी हैं। यहां तक की कुछ रिपोर्ट में दावा किया गया है कि वह सिर्फ 16 साल की उम्र में लश्कर में शामिल हो गया था। इसके बाद उसकी रैंक बढ़ गई। वहीं, कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि वह पाकिस्तानी सेना या आईएसआई का सदस्य है, जो लश्कर के साथ मिलकर काम करता है।