Asianet News Hindi

मरीजों की दुर्दशा से लेकर झूठ तक...लेखिका ने कोरोना को लेकर खोली चीन की पोल, मिल रहीं धमकियां

जिस कोरोना वायरस से दुनिया में हाहाकार मचा है, उसका पहला मामला दिसंबर में चीन के वुहान से सामने आया था। तभी से कोरोना को लेकर चीन पर तमाम प्रकार के आरोप लग रहे हैं। वहीं, चीन को लेकर दिन प्रति दिन कुछ ऐसे भी खुलासे हो रहे हैं, जिनसे यह शक और भी बढ़ता जा रहा है।

Chinese writer Fang Fang write notes on corona, faces death threats for Wuhan Diary KPP
Author
Beijing, First Published Apr 24, 2020, 4:52 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बीजिंग. जिस कोरोना वायरस से दुनिया में हाहाकार मचा है, उसका पहला मामला दिसंबर में चीन के वुहान से सामने आया था। तभी से कोरोना को लेकर चीन पर तमाम प्रकार के आरोप लग रहे हैं। वहीं, चीन को लेकर दिन प्रति दिन कुछ ऐसे भी खुलासे हो रहे हैं, जिनसे यह शक और भी पक्का हो रहा है। इसी तरह से चीन की एक प्रसिद्ध लेखिका ने कोरोना वायरस को लेकर चीन की गलतियों का पिटारा खोला है। लेखिका ने 'वुहान डायरी' नाम की एक डायरी लिखी है, इससे चीन के बी होश उड़ गए हैं। 

जब वुहान में कोरोना वायरस फैलने के बाद इसकी सीमाएं बंद कर दी गईं तो यहां की लेखिका फेंग फेंग ने शहर की मौजूदा स्थिति पर एक ऑनलाइन डायरी लिखना शुरू किया। इस डायरी को लाखों लोगों ने पढ़ा। अब यह डायरी दुनियाभर में कई देशों में प्रकाशित होनी है। इसके बाद उन्हें चीन में धमकियां मिलने लगी हैं। 

चीन के सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित हैं फेंग फेंग
64 साल की फेंग फेंग को चीन के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। उनके आलोचकों का कहना है कि वे कोरोना वायरस के चलते चीन की आलोचना करने वाले देशों को और मौका दे रही हैं। 

कब लिखी डायरी
वुहान में 23 जनवरी को लॉकडाउन लगाया गया था। 1.1 करोड़ आबादी वाले इस शहर में दिसंबर में कोरोना का पहला मामला सामने आया था। इसके बाद ही फेंग ने अपनी किताब लिखना शुरू किया।

डायरी में खोली चीन की पोल
वुहान में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए लोगों के खिलाफ काफी सख्त कदम उठाए थे, ऐसे में उन्होंने यहां के नागरिकों के डर, गुस्से और आशंका के बारे में लिखा। इसके साथ ही उन्होंने वुहान में मरीजों की दुर्दशा, संक्रमित लोगों से भरे हुए अस्पताल, मास्क की कमी और अपनों की मौत का भी जिक्र किया। 

उन्होंने डायरी में लिखा, उन्हें उनके डॉक्टर दोस्त ने बताया, सभी डॉक्टरों को पता था कि वायरस इंसान से इंसान में ट्रांसमिट हो रहा है। इस बारे में अधिकारियों को भी बताया गया। लेकिन अफसरों ने जनता से यह सब छिपा कर रखा। 

मिल रहीं धमकियां
फेंग फेंग ने अपनी बात रखने के लिए ऑनलाइन डॉयरी का इस्तेमाल किया। कोरोना को लेकर अमेरिका चीन पर गंभीर आरोप लगा रहा है। साथ ही दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के लिए चीन को जिम्मेदार ठहरा रहा है। ऐसे में कुछ सोशल मीडिया यूजर्स इस डायरी को लेकर लेखिका की आलोचना कर रहे हैं। 

Twitter की तरह ही चीन में इस्तेमाल होने वाले  Weibo प्लेटफार्म पर एक यूजर ने लिखा, बहुत बढ़िया फेंग फेंग, तुम पश्चिमी देशों को चीन की आलोचना करने के लिए साम्रगी दे रही हो। वहीं, कुछ लोग उनपर पैसे के लिए डायरी लिखने का आरोप लगा रहे हैं। इतना ही नहीं उन्हें जान से मारने की भी धमकियां मिल रही हैं।

'विनाशकारी स्थिति को सबके सामने रखा'
वहीं, यह किताब जून में मिलना शुरू हो जाएगी। वहीं, पब्लिशिंग हाउस का कहना है कि लेखिका ने इस विनाशकारी स्थिति की वास्तविकता को रखा है। साथ ही चीन में होने वाले सामाजिक अन्याय, भ्रष्टाचार, दुर्व्यवहार को सबके सामने रखा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios