नई दिल्ली. गूगल ने 6 जुलाई से क्रमबद्ध तरीके से अपने दफ्तर खोलने की योजना बनाई है। इसके अलावा वर्क फ्रॉम होम से संबंधित फर्नीचर और अन्य जरूरी सामान खरीदने के लिए हर कर्मचारी को 75 हजार रुपए देने का ऐलान किया है। 

गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचई ने कहा, 6 जुलाई से कंपनी अपने ऑफिस खोलना शुरू करेगी। 

दफ्तर में सिर्फ 10% कर्मचारी रहेंगे
सुंदर पिचई ने अपने बयान में कहा, दफ्तर में सिर्फ 10% ही कर्मचारी रहेंगे। लेकिन इससे उन कर्मचारियों को लाभ मिलेगा, जो वापस दफ्तर आना चाहते हैं। लेकिन कर्मचारी रोटेटिंग बेसिस पर और सीमित संख्या में ही आएंगे। सुंदर पिचई ने कहा, सब कुछ ठीक रहा तो सितंबर तक हम 30% की संख्या बढ़ा देंगे। लेकिन अभी जो कर्मचारी वर्कफ्रॉम होम कर रहे हैं, वे दिसंबर तक जारी रख सकेंगे। 

सोशल डिस्टेंसिंग का होगा पालन
पिचई ने बताया कि दफ्तरों में सुरक्षा मानकों को बढ़ाने का काम किया जा रहा है। इससे कर्मचारियों में संक्रमण का खतरा कम होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का सख्ती से पालन किया जाएगा। दुनियाभर के 50 देशों में गूगल के 70 दफ्तर हैं। भारत में गूगल के बेंगलुरु, गुरुग्राम, हैदराबाद और मुंबई में ऑफिस हैं। अकेले भारत में कंपनी के 53 हजार कर्मचारी हैं। 

वर्क फ्रॉम होम को मिलेगा बढ़ावा
कोरोना संकट के चलते दुनियाभर के देश सोशल डिस्टेंसिंग के चलते वर्क फ्रॉम होम को बढ़ावा दे रहे हैं। गूगल ने भी अपने कर्मचारियों को 75 हजार रुपए का बोनस दिया। इससे वे घर पर वर्क स्टेशन तैयार करने और बच्चों की देखभाल करने कर सकें। इतना ही नहीं भारत में इंफोसिस और एचसीएल जैसी कंपनियों ने भी कहा है कि वर्क फ्रॉम को बढ़ावा देना जरूरी है।