Asianet News HindiAsianet News Hindi

चीन का सदाबहार दोस्त पाकिस्तान बढ़ा रहा यूक्रेन से नजदीकी, दे सकता है $ 1 बिलियन का झटका

VT4 एक्सपोर्ट संस्करण का एक चीनी मुख्य युद्धक टैंक है। इसे MBT-3000 के रूप में भी जाना जाता है और NORINCO द्वारा इसका डिस्ट्रीब्यूशन किया जा रहा है। पाकिस्तानी सुरक्षा विश्लेषकों के अनुसार, देश की चीन निर्मित VT-4 टैंकों में अब कोई दिलचस्पी नहीं है।

Pakistan can abandon billion dollar defence deal with evergreen friend China, Know reason for this betrayal
Author
Islamabad, First Published Sep 2, 2021, 4:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

इस्लामाबाद। पाकिस्तान अपने पुराने सहयोगी चीन को झटका देने की फिराक में है। पाकिस्तान फायदे के लिए अब चीन को धोखा देकर यूक्रेन से सैन्य दोस्ती बढ़ा रहा। इस नई दोस्ती से चीन को डर सता रहा कि उसका सदाबहार सहयोगी पाकिस्तान $ 1 बिलियन के अपने वीटी -4 टैंकों की खरीद को छोड़ सकता है।

खुफिया रिपोर्टों के अनुसार, पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने इस साल मई में यूक्रेन का दौरा किया। बाजवा टी-84 ओपीएलओटी मुख्य युद्धक टैंक और स्किफ एंटी टैंक सिस्टम सहित सैन्य हथियारों के विभिन्न सेटों को खरीदने में वहां रुचि दिखाया। यूक्रेन के टी-84 टैंकों का परीक्षण पिछले साल पाकिस्तान में किया गया था।

हालांकि, चीनी लड़ाकू टैंकों के पहले बैच को इस साल जुलाई में पाकिस्तानी सेना के शस्त्रागार में शामिल किया गया था। दोनों देशों ने 292 टैंक खरीदने के समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

वीटी-4 चीनी युद्धक टैंक है

VT4 एक्सपोर्ट संस्करण का एक चीनी मुख्य युद्धक टैंक है। इसे MBT-3000 के रूप में भी जाना जाता है और NORINCO द्वारा इसका डिस्ट्रीब्यूशन किया जा रहा है। पाकिस्तानी सुरक्षा विश्लेषकों के अनुसार, देश की चीन निर्मित VT-4 टैंकों में अब कोई दिलचस्पी नहीं है।

इससे पहले 2018 में, पाकिस्तान रूस से T-90 MBT खरीदने की संभावना तलाश रहा था। लेकिन रूसी सरकार इस्लामाबाद तक पहुंचाने के लिए उत्सुक नहीं थी। यह भले ही दोनों देशों ने 2014 में एक रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

इस समझौते के कारण 2015 में पाकिस्तान को पहली बार रूसी सैन्य उपकरणों की बिक्री हुई। पाकिस्तान ने मास्को से चार Mi-35M और कुछ Mi-171E खरीदे।

लेकिन रूस ने पाकिस्तान के प्रस्ताव को ठुकरा दिया

रूस द्वारा 300 से अधिक T-90 टैंक खरीदने के पाकिस्तान के प्रस्ताव को ठुकराने पर, भारतीय विश्लेषकों का कहना है कि मास्को नई दिल्ली को और अधिक विरोध नहीं करना चाहता।
2019 में, भारत ने 13,500 करोड़ रुपये से अधिक के सौदे में रूस से 464 T-90 टैंकों की खरीद को मंजूरी दी। मास्को के साथ अपने असफल प्रयास के बाद, पाकिस्तान अपने संबंधों को और बढ़ाने के लिए यूक्रेन चला गया।

यूक्रेन से बढ़ा रहा पाकिस्तान संबंध, बदल रहे दुनिया के समीकरण

जनरल क़मर जावेद बाजवा की यूक्रेन यात्रा के दौरान, दोनों सेनाओं ने रक्षा उत्पादन, आतंकवाद, प्रशिक्षण और खुफिया डोमेन में सैन्य सहयोग के लिए अपनी सेना को और बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की।

2014 के संकट के बाद से, यूक्रेन और चीन के संबंध आर्थिक दृष्टि से बदल गए हैं। बीजिंग अकेला सबसे बड़ा व्यापारिक देश बन गया है क्योंकि इसका आयात 14.4 प्रतिशत और निर्यात में 15.3 प्रतिशत है।

जबकि दोनों देशों के बीच पिछले कुछ वर्षों में आर्थिक संबंध फले-फूले हैं, राजनीतिक संबंध अभी भी स्थिर हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि चीन ने संयुक्त राष्ट्र में क्रीमिया के विलय की निंदा करने वाले प्रस्तावों और यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता के लिए और खतरों के खिलाफ रूस के साथ मतदान करना पसंद किया।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios