जेनेवा. स्विट्जरलैंड के जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) का सत्र चल रहा है। इस दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर को भारत का राज्य बताया। 

शाह मीडिया से बातचीत कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत विश्व को यह बताने का प्रयास कर रहा है कि कश्मीर में सब कुछ ठीक चल रहा है। अगर वहां सब कुछ ठीक है तो भारत के राज्य जम्मू-कश्मीर में मीडिया, अंतरराष्ट्रीय मीडिया, अंतरराष्ट्रीय संगठन और एनजीओ को क्यों नहीं जाने दिया जा रहा। 

भारत पर विश्व को गुमराह करने का लगाया आरोप
इससे पहले पाकिस्तान कश्मीर को भारत प्रशासित कश्मीर का दर्जा देता था। शाह का ये बयान तब आया जब वे UNHRC को संबोधित करके लौट रहे थे। यहां उन्होंने आरोप लगाया कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 वापस लेने के बाद भारत गुमराह कर रहा है। 

कुरैशी जिस वक्त UNHRC को संबोधित कर रहे थे, उस वक्त यूएन हेडक्वार्टर के बाहर पाकिस्तान में हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन के विरोध में प्रदर्शन हो रहे थे। 

'कश्मीर भारत का अभिन्न अंग'
भारत ने जब 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिया था। उसी वक्त से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान लगातार अंतरराष्ट्रीय समुदाय से इस मुद्दे पर मदद मांग रहा है। पड़ोसी देश प्रोपेगेंडा के तहत लगातार कश्मीर को लेकर झूठ फैला रहा है। हालांकि, हर बार उसका झूठ बेनकाब हो जाता है। जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत ने अपना रुख साफ कर दिया है, कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। इससे पहले पाक ने UNSC में भी यह मुद्दा उठाया था लेकिन परिणाम भारत के पक्ष में ही आया था, क्योंकि अमेरिका, रूस समेत तमाम देशों ने भारत का समर्थन दिया था।