Asianet News HindiAsianet News Hindi

Taliban को प्रैंक बनाकर चला गया अमेरिका, हेलिकॉप्टर्स से लेकर रॉकेट डिफेंस सिस्टम तक सबको 'खिलौना' बना गया

Afghanistan से जाते-जाते अमेरिकाTaliban को प्रैंक(prank-शरारत) बनाकर चला गया। तालिबान ने जब अमेरिका द्वारा छोड़ गए सैन्य हथियार और हेलिकॉप्टर्स देखे, तो मालूम चला कि अब वे किसी काम के नहीं है।

Taliban terror US Army damaged their weapons and helicopter before returning from Afghanistan
Author
Kabul, First Published Aug 31, 2021, 12:56 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

काबुल. एक कहावत है कि प्रेम और युद्ध में कुछ भी संभव है! Afghanistan से जाते-जाते अमेरिकी सैनिक भी Taliban के साथ प्रैंक (prank-शरारत) बना गए। दरअसल, अमेरिका अफगानिस्तान में बड़ी संख्या में अपने सैन्य हथियार, उपकरण और कुछ हेलिकॉप्टर्स छोड़कर गया है। तालिबान को लगा था कि वो इनका इस्तेमाल कर सकता है। लेकिन जब उसने इन्हें चेक किया, तो माथा ठोंक लिया। सबके सब कबाड़ निकले। अमेरिकी सैनिक जाते-जाते इन्हें डैमेज करके चले गए, ताकि तालिबान इन्हें यूज नहीं कर सके। यानी अब ये चीजें सिर्फ बच्चों के खेलने के काम की रह गई हैं।

यह भी पढ़ें-अब पूरी तरह Taliban भरोसे अफगानिस्तान; 20 साल की लड़ाई के बाद अमेरिकी सेना की पूरी तरह वापसी

आधी रात अफगानिस्तान छोड़ा अमेरिकी सेना ने
तालिबान ने अमेरिका को अफगानिस्तान छोड़ने के लिए 31 अगस्त की तारीख तय की थी। अमेरिका ने 30 अगस्त की आधी रात अफगानिस्तान से अपना पूरी तरह बोरियां-बिस्तरा समेट लिया। लेकिन जाते-जाते वो उन सभी विमानों और रॉकेट डिफेंस सिस्टम को डैमेज कर गया, जिनका इस्तेमाल हो सकता था।

यह भी पढ़ें-क्रूरता पर उतरा Taliban, दायकुंदी में हजारा समुदाय के 14 लोगों का कत्ल; क्योंकि लड़कियां लाइब्रेरी जाती थीं

अमेरिका के किसी काम के नहीं बचे थे
सैन्य एक्सपर्ट मानते हैं कि अमेरिका यहां जिन हथियारों और सैन्य सामग्री का इस्तेमाल कर रहा था, वे यहीं के लिए उपयोगी थे। दूसरी परिस्थितियों के लिए वे बेकार थे। अमेरिका ने इन सामग्री को इसलिए खराब किया, ताकि तालिबान चाहते हुए भी इनका दुरुपयोग नहीं कर सके।

 pic.twitter.com/Z7zCzGsZGY

यह भी पढ़ें-Taliban के 'सत्ता' में आते ही फिर जिंदा हुआ महिलाओं में टॉर्चर का खौफ, लेडी आर्टिस्ट ने दिखाया दर्द

20 साल बाद अमेरिका की वापसी
Afghanistan से 20 साल बाद अमेरिकी सेना की पूरी तरह वापसी हो गई। देर रात अमेरिकी सेना के अंतिम तीन सी-17 विमानों ने काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उड़ान भरी। अमेरिकी सेना की रवानगी के साथ ही तालिबान लड़ाके एयरपोर्ट के अंदर घुस गए। उन्होंने अमेरिकी सेना द्वारा छोड़ी गईं वर्दी पहन रखी थीं। हथियार भी अमेरिका के ही थे। वे हथियार लहराते हुए अंदर घुसे। तालिबान के लड़ाकों ने रातभर जश्न मनाया। इस तरह 19 साल;10 महीने और 10 दिन बाद अमेरिका का अफगानिस्तान में सैन्य अभियान समाप्त हो गया।

(पहली तस्वीर तालिबान की 'बद्री 313' स्पेशल फोर्स यूनिट की है, जो एयरपोर्ट के बाहर साइकिल चलाते देखी गई, दूसरी तस्वीर अमेरिका द्वारा छोड़ा गया कबाड़ हेलिकॉप्टर और अन्य सामान)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios