Asianet News Hindi

US Presidential Debate की बड़ी बातेंः बाइडन ने कहा- ट्रंप ने नफरत और नस्लीय भेदभाव को बढ़ाया

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां अब तेज होती जा रही है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन के बीच पहली आधिकारिक प्रेसिडेंशिल डिबेट हुई।

Trump and Biden did not join hands in live Presidential Debate fierce debate ensued The appointment of judges surrounded the case kpl
Author
New Delhi, First Published Sep 30, 2020, 7:17 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी बाइडेन के बीच 90 मिनट की पहली आधिकारिक प्रेसिडेंशिल डिबेट हुई। अमेरिका में तीन नवबंर को होने वाले चुनाव से पहले ट्रंप और बाइडेन के बीच तीन बार इस तरह की बहस होगी। दूसरी डिबेट 15 अक्टूबर और तीसरी 22 अक्टूबर को होनी है। पहली प्रेसिडेंशियल डिबेट का संचालन फॉक्स न्यूज के मशहूर एंकर क्रिस वालास ने किया। सी-स्पैन नेटवर्क्स के स्टीव स्कली 15 अक्टूबर को मियामी (फ्लोरिडा) में होने वाली दूसरी बहस और एनबीसी न्यूज की क्रिस्टन वेलकर 20 अक्टूबर को नैशविले (टेनेसी) में तीसरी बहस का संचालन करेंगी।

डिबेट के कुछ बड़े प्वाइंट्स...

-ट्रंप अक्सर डिबेट में पर्सनल अटैक करते रहे हैं। इस बार भी ट्रंप ने बाइडन के बेटे हंटर बाइडन पर निशाना साधा। ट्रंप ने हंटर बाइडन के ड्रग एडिक्शन का मुद्दा उठाया तो बाइडन ने भी पलटकर जवाब दिया।' बाइडन ने कहा, 'मेरे बेटे के साथ ड्रग की समस्या थी, लेकिन वो इससे बाहर निकलने में कामयाब रहा। मुझे अपने बेटे पर गर्व है।'

-डिबेट के मॉडरेटर ने सवाल किया कि लोग राष्ट्रपति पद के लिए आपको क्यों चुनें? ट्रंप ने सेना को लेकर अपने रिकॉर्ड का बचाव किया। बाइडन ने कहा- ट्रंप के शासन में अमेरिका सबसे कमजोर, बीमार, गरीब, बंटा हुआ और सबसे हिंसक देश बन गया है।' बाइडन ने कहा कि 'ट्रंप कभी भी अपने वादे पर कायम नहीं रहते।'

-नस्लभेदी मानसिकता को लेकर बाइडन और ट्रंप के बीच तीखी बहस छिड़ी। बाइडन ने कहा- 'ट्रंप लोगों को एक करने के बजाय बांटते हैं। ट्रंप एक ऐसे राष्ट्रपति हैं जिसने नफरत और नस्लीय भेदभाव बढ़ाने के लिए हर चीज का इस्तेमाल किया।'

-ट्रंप ने बाइडन पर 1994 के क्राइम बिल को लेकर निशाना साधा और उसके बाद कानून व्यवस्था बनाए रखने की बात करने लगे। बता दें, 'अमेरिका में अश्वेत समुदाय के खिलाफ हिंसा की घटनाएं अमेरिकी चुनाव में अहम मुद्दा है। ट्रंप ने जहां बाइडन को कानून व्यवस्था भंग करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाते रहे, वहीं बाइडन ट्रंप पर नस्ली भेदभाव की मानसिकता को बढ़ावा देने को लेकर हमलावर रहे।

-डिबेट में डोनाल्ड ट्रंप पर टैक्स चोरी के आरोप का भी मुद्दा उठा। ट्रंप से जब ना के बराबर टैक्स भरने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने अपने बचाव में कहा, 'मैं टैक्स नहीं भरना चाहता हूं।' ट्रंप ने कहा कि 'अमेरिकी सिस्टम में कई लूपहोल्स हैं हालांकि उन्होंने ये भी दावा किया कि उन्होंने राष्ट्रपति कार्यकाल के पहले साल में मिलियन डॉलर्स का टैक्स भरा।'

-ट्रंप ने कहा, 'हमने पीपीई किट बनवाए, मास्क बनवाए। हमने वेंटिलेटर्स का उत्पादन किया। अब हम वैक्सीन से सिर्फ कुछ हफ्ते दूर हैं। बहुत कम लोग कोरोना से मर रहे हैं।' ट्रंप ने चीन को वायरस के लिए दोषी ठहराते हुए कहा, 'खराब प्रेस की वजह से उनके प्रशासन को कोरोना नियंत्रण में नाकाम बताया जा रहा है।'

-बाइडन ने कहा, 'कोरोना महामारी जब फैल रही थी तो ट्रंप स्टॉक मार्केट देख रहे थे। ट्रंप ने राज्यों को लॉकडाउन खत्म करने के लिए मजबूर किया और महामारी के खतरे को कम करके आंका। ट्रंप अमेरिका के अब तक के सबसे खराब राष्ट्रपति हैं। ट्रंप को गोल्फ कोर्स से निकलकर काम करने की जरूरत है।' ट्रंप ने जवाब में कहा, 'हमने बहुत शानदार काम किया। मैं आपको बताता हूं कि आपने कभी इतना बेहतरीन काम नहीं किया होता। ये आपके खून में ही नहीं है।'

-इस दौरान कोरोना महामारी के बीच चुनावी रैलियों का ट्रंप ने बचाव किया। ट्रंप ने कहा, 'लोग मुझे सुनना चाहते हैं। मेरी रैलियों में करीब 25,000-30,00 लोग आते हैं।' वहीं, ट्रंप के विपरीत जो बाइडन कोरोना महामारी को देखते हुए बहुत कम चुनावी इवेंट करते हैं और वो कोरोना की गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं।'

-अमेरिका में कोरोना वायरस से करीब 2 लाख लोगों की मौत हो चुकी है, लेकिन ट्रंप अब भी मास्क पहनने का मजाक उड़ा रहे हैं। ट्रंप ने जो बाइडन के मास्क पहनने को लेकर मजाक उड़ाया। ट्रंप ने कहा, 'मैं बाइडन की तरह मास्क नहीं पहनता हूं। जब भी आप उन्हें देखते हैं, वो मास्क पहने रहते हैं। हो सकता है कि वो 200 फीट की दूरी से बात करें और शायद वो सबसे बड़ा मास्क पहनते हैं।'

-बाइडन ने मास्क के इस्तेमाल को लेकर अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन के डायरेक्टर की सलाह का जिक्र किया और कहा कि 'अगर लोग उनकी सलाह को मानेंगे तो कई जानें बच जाएंगी।' ट्रंप ने जवाब में कहा कि 'स्वास्थ्य अधिकारी इससे उलट बात कहते हैं और वो वही दोहरा रहे हैं।'

-बाइडन ने ट्रंप पर अमेरिका में कोरोना वायरस की महामारी से निपटने में नाकाम रहने का आरोप लगाया और कहा- 'ट्रंप प्रशासन ने कोई तैयारी नहीं की थी। अमेरिका में सबसे ज्यादा मौत इसलिए हुई क्योंकि सरकार महामारी के खतरों को लेकर बेफिक्र रही और कोई प्लान नहीं किया।' ट्रंप ने कहा, 'उनकी सरकार ने कोरोना का बहुत प्रभावी तरीके से सामना किया। मौत का आंकड़ा सबसे ज्यादा इसलिए है क्योंकि अमेरीका सही डेटा दे रहा है जबकि चीन, रूस और भारत मौत के सही आंकड़े नहीं दे रहे।'

-बाइडन ने कोरोना वैक्सीन को लेकर भी ट्रंप पर हमला बोला। कहा, 'ट्रंप ने वैज्ञानिकों पर दबाव डाला जिससे जल्द से जल्द वैक्सीन बन सके। मुझे ट्रंप पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं है।' जवाब देते हुए ट्रंप ने कहा, 'जल्द ही आपके पास वैक्सीन होगी।'

-बहस के 18 मिनट के भीतर ही बाइडन ट्रंप की ओर मुड़े और चिल्लाए, क्या तुम चुप होगे। ट्रंप ने बाइडन को नजरअंदाज करते हुए बात करनी जारी रखी। कहा, 'लोग जानते हैं कि 47 सालों में तुमने कुछ नहीं किया।'

-अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट में रिपब्लिकन विचाराधारा की जज की नियुक्ति का ऐलान किया है। इससे ट्रंप को हेल्थकेयर को खत्म करने में मदद मिलेगी। इससे जुड़े सवाल पर ट्रंप ने कहा, 'मैं आपको सीधी बात बताता हूं, हमने चुनाव जीता है। चुनाव के नतीजे होते हैं। हमारे पास सीनेट है।' सुप्रीम कोर्ट में एमी कोनी बैरेट के चुनाव के फैसले का बचाव करते हुए ट्रंप ने कहा, 'वो हर तरीके से बेहतरीन हैं। मुझे लगता है कि वो अच्छा करेंगी।'

- सुप्रीम कोर्ट में जज की रिपब्लिकन विचारधारा की जज एमी बैरेट की नियुक्ति को लेकर सवाल पर ट्रंप ने कहा, 'हमने चुनाव जीता है। चुनाव के कई नतीजे होते हैं।'

-डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडन ने कोरोना वायरस की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए हाथ नहीं मिलाए।

 

बाइडेन को मिला ट्रंप के खिलाफ हथियार

बताया जा रहा है कि डिबेट से ठीक पहले बाइडन को ट्रंप के खिलाफ एक बेहतरीन हथियार मिल गया था। न्यू यॉर्क टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में खुलासा किया है कि पिछले 15 साल में से 10 साल डोनाल्ड ट्रंप ने कोई टैक्स नहीं दिया है, जबकि वह रियल एस्टेट के एक दिग्गज और सफल कारोबारी रहे हैं। ट्रंप ने साल 2016 और 2017 में दोनों साल सिर्फ 750 डॉलर का टैक्स चुकाया। हालांकि, राष्ट्रपति ट्रंप ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसे फर्जी खबर बताते हुए खारिज कर दिया है, लेकिन डिबेट में इससे जुड़े सवालों को टालना ट्रंप के लिए आसान नहीं होगा।

हिलेरी क्लिंटन ने भी ट्रंप पर टैक्स चोरी का लगाया था आरोप

साल 2016 में अमेरिका में पिछले राष्ट्रपति चुनाव के दौरान बहस के दौरान डेमाक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने भी ट्रंप पर टैक्स चोरी का आरोप लगाते हुए कहा था कि ट्रंप इसी वजह से टैक्स को लेकर अपने आंकड़े जारी नहीं करते, क्योंकि उन्होंने एक डॉलर का भी फेडरल टैक्स नहीं दिया है।

इस बार की डीबेट है बिल्कुल अलग

कोरोना वायरस की महामारी की वजह से इस बार की डिबेट बेहद अलग रखा गया। क्लीवलैंड में हो रही इस डिबेट में ना तो ट्रंप और बाइडन हाथ मिलाएंगे और ना ही पहले की तरह ऑडियंस थी। इस बार की डिबेट में सिर्फ 70 लोग ऑडियंस के तौर पर थे। इवेंट में शामिल होने वाले हर शख्स का कोरोना टेस्ट किया गया।

7 अक्टूबर को होगी वाइस प्रेसिडेंशियल डिबेट

वाइस प्रेसिडेंशियल की दूसरी डिबेट 7 अक्टूबर को साल्ट लेक सिटी की उटाह यूनिवर्सिटी में आयोजित की जाएगी। इसे यूएसए टुडे की वॉशिंगटन ब्यूरो चीफ सुसान पेज संचालित करेंगी। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में बस एक महीना ही बाकी है। इस दौरान जो अप्रूवल रेटिंग देखने को मिल रहा है। उसमें डोनाल्ड ट्रंप पिछड़ते दिखाई दे रहे हैं। उनके प्रतिद्वंदी और डेमोक्रेटिक पार्टी से उम्मीदवार जो बाइडेन 10 अंक आगे चल रहे हैं। कोरोना वायरस महामारी और हेल्थकेयर के मुद्दे को लेकर बाइडेन बढ़त बनाए हुए हैं। जबकि, चीन के खिलाफ कड़े कदमों को लेकर ट्रंप आगे हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios