Asianet News HindiAsianet News Hindi

अमेरिका ने इस देश को दिया था अरबों की मदद, फिर भी मारे गए कई सैनिक

अमेरिका की पूर्व दूत निक्की हेली पुस्तक ‘‘विद आल ड्यू रिस्पेक्ट: डिफेंडिंग अमेरिका विद ग्रिट एंड ग्रेस’’ मंगलवार को बाजार में आयी है। हेली ने लिखा है, ‘‘हमने पाकिस्तान को अन्य देशों की तुलना में अधिक सहायता दी।’’ 

US support Pakistan more than billion dollars in few years but US Army continue dies
Author
Washington D.C., First Published Nov 12, 2019, 5:33 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

वाशिंगटन. संयुक्त राष्ट्र के लिए अमेरिका की पूर्व दूत निक्की हेली ने कहा है कि पाकिस्तान उन आतंकवादियों को शरण देता है जो ‘‘अमेरिकी सैनिकों को मारने का प्रयास करते हैं।’’

हेली की पुस्तक लॉन्च

हेली की पुस्तक ‘‘विद आल ड्यू रिस्पेक्ट: डिफेंडिंग अमेरिका विद ग्रिट एंड ग्रेस’’ मंगलवार को बाजार में आयी। भारतीय मूल की अमेरिकी निक्की हेली ने इस पुस्तक में लिखा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तब नाराज हुए जब उन्होंने उन्हें अपना यह निष्कर्ष सौंपा कि अमेरिकी सहायता प्राप्त करने वाले प्रमुख देशों में शामिल होने के बावजूद पाकिस्तान ने न केवल संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के खिलाफ वोट किया बल्कि आतंकवादियों को शरण भी दी।

पाकिस्तान का विरोध 

हेली ने अपनी पुस्तक में लिखा है, ‘‘हमने पाकिस्तान को अन्य देशों की तुलना में अधिक सहायता दी। 2017 में अमेरिका ने उसकी सेना को करीब एक अरब अमेरिकी डालर की सहायता दी। पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र में पूरे 76 प्रतिशत समय हमारा विरोध करता है। सबसे बुरा यह है कि पाकिस्तान आतंकवादियों को शरण देता है जो हमारे अमेरिकी सैनिकों को मारने का प्रयास करते हैं।’’

सहायता ठप

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने इन निष्कर्षों एवं अन्य चीजों से राष्ट्रपति ट्रंप को अवगत कराया। वह नाराज हुए। उसके तुरंत बाद उन्होंने कांग्रेस से यह सुनिश्चित करने के लिए एक विधेयक पारित करने के लिए कहा कि अमेरिकी विदेशी सहायता केवल अमेरिकी हितों और अमेरिका के मित्रों को बढ़ावा देने के लिए दी जाए।’’

उन्होंने कहा कि मानवीय सहायता अमेरिका के लिए हमेशा ही एक प्राथमिकता रहेगी।

 

 

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।) 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios