Asianet News Hindi

इसरायल-फिलिस्तीन विवादः सुरक्षा परिषद को अमेरिका ने रोका, कहा-पर्दे के पीछे हो सकेगी मुकम्मल बातचीत

इसरायल-फिलिस्तीन में आठ दिनों से संघर्ष जारी है। इसरायल की ओर से बयान दिया गया है कि गजा में उसके हमलों से कम से कम 150 चरमपंथियों को मार गिराया है। इसरायल ने आम लोगों की मौतों को जानबूझकर नहीं बताया है। 

US want security council to stay out, nations are about to resolve the Israel-Palestine issue DHA
Author
Washington D.C., First Published May 18, 2021, 2:51 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बिडेन ने इसरायल और फिलिस्तीन के बीच युद्ध विराम की अपील की है। अमेरिका ने विश्व के विभिन्न संगठनों और समुदायों के उस अपील का समर्थन किया है जिसमें युद्ध को रोकने की अपील की गई है। हालांकि, अमेरिका यूएन सुरक्षा परिषद को युद्ध विराम के लिए उठाए जाने वाले कदमों को लगातार बाधा पहुंचा रहा है। 

आठ दिनों से युद्ध जारी

इसरायल-फिलिस्तीन में आठ दिनों से संघर्ष जारी है। इसरायल की ओर से बयान दिया गया है कि गजा में उसके हमलों से कम से कम 150 चरमपंथियों को मार गिराया है। इसरायल ने आम लोगों की मौतों को जानबूझकर नहीं बताया है। 
रिपोर्टों के अनुसार गजा में अबतक 61 बच्चों समेत 212 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि इसरायल में दो बच्चों समेत दस लोग मारे गए हैं। हालांकि, स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार गजा शहर में हो रहे हमले से इस कदर तबाही मची है कि लाशें गिननी मुश्किल हो रही है। लोग किसी तरह खुद को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। 

यूएस प्रेसिडेंट ने की इसरायल के राष्ट्रपति से बात

व्हाइट हाउस के अनुसार प्रेसिडेंट जो बिडेन व इसरायल के पीएम नेतन्याहू के बीच बातचीत हुई है। अमेरिका मिस्त्र व अन्य देशों के साथ मिलकर दोनों देशों के बीच तनाव कम करने और संघर्ष विराम के लिए प्रयासरत है। प्रेसिडेंट बिडेन ने इसरायल से अपील की है कि वह बेगुनाह लोगों को शिकार न बनाए। 

अमेरिका ने सुरक्षा परिषद का रास्ता रोका

अमेरिका संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को बयान देने से तीन बार रोक चुका है। अमेरिका कूटनीतिक प्रयासों का हवाला देकर सुरक्षा परिषद से बयान देने को रोक रहा है। व्हाइट हाउस ने बताया कि अमेरिका का मानना है कि पर्दे के पीछे से बात करके बेहतर व प्रभावी राह निकाली जा सकती है।

संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता

यूएनओ ने गजा पट्टी की तबाही पर चिंता जताई है। इस शहर में करीब बीस लाख की आबादी है। यूएन की रिपोर्ट के अनुसार यहां के चालीस स्कूल, चार अस्पताल नष्ट हो चुके हैं। ईधन आपूर्ति व आवश्यक सेवाएं ठप है। 

एकमात्र कोविड लैब सेंटर भी नष्ट

गजा में कोविड टेस्टिंग के लिए एक लैब था। यहां कोविड पाॅजिटिविटी रेट 28 प्रतिशत से अधिक है। लेकिन सोमवार को वह भी नष्ट कर दिया गया। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios