Asianet News Hindi

गुड फ्राइडे 10 अप्रैल को, प्रशु यीशु को इसी दिन चढ़ाया गया था सूली पर, जानें प्रभु के जीवन से जुड़ीं बातें

इस बार 10 अप्रैल को गुड फ्राइडे है। ईसाई धर्म के लोग गुड फ्राइडे को प्रभु यीशु को क्रूस पर चढ़ाए जाने और मानवता की रक्षा के लिए प्राण देने की याद में मनाते हैं।

Good Friday on 10th April, know the life facts of Jesus KPI
Author
Ujjain, First Published Apr 8, 2020, 1:53 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. इस बार 10 अप्रैल को गुड फ्राइडे है। ईसाई धर्म के लोग गुड फ्राइडे को प्रभु यीशु को क्रूस पर चढ़ाए जाने और मानवता की रक्षा के लिए प्राण देने की याद में मनाते हैं। ईसाई धर्म के प्रमुख ग्रंथों बाइबिल और न्यू टेस्टामेंट के आधार पर ईसा मसीह मृत्यु के 3 दिन बात पुनर्जीवित हो गए थे। गुड फ्राइडे के अवसर पर हम आपको प्रभु यीशु के जीवन के बारे में बता रहे हैं-

कुंवारी लड़की के गर्भ से हुआ था यीशु का जन्म
ईसाई धर्म के अनुसार प्रभु यीशु का जन्म बेतलेहम (जोर्डन) में कुँवारी मरियम (वर्जिन मरियम) के गर्भ से हुआ था। उनके पिता का नाम युसुफ था, जो पेशे से बढ़ई थे। स्वयं ईसा मसीह ने भी 30 वर्ष की आयु तक अपना पारिवारिक बढ़ई का व्यवसाय किया। पूरा समाज उनकी ईमानदारी और सद्व्यवहार, सभ्यता से प्रभावित था। सभी उन पर भरोसा करते थे।

विद्वान यूहन्ना से दीक्षा ली थी यीशु ने
यहूदी विद्वान यूहन्ना से भेंट होना यीशु के जीवन की महत्वपूर्ण घटना थी। यूहन्ना जोर्डन नदी के तट पर रहते थे। यीशु ने सर्वप्रथम जोर्डन नदी का जल ग्रहण किया और फिर यूहन्ना से दीक्षा ली। यही दीक्षा के पश्चात ही उनका आध्यात्मिक जीवन शुरू हुआ। अपने सुधारवादी एवं क्रांतिकारी विचारों के कारण यूहन्ना के कैद हो जाने के बाद बहुत समय तक ईसा मृत सागर और जोर्डन नदी के आस-पास के क्षेत्रों में उपदेश देते रहे।

यीशु के शिष्य ने ही किया था विश्वासघात
एक बार यीशु ने अपने शिष्यों से कहा वह समय आ गया है जब एक विश्वासघाती मुझे शत्रुओं के हाथों सौंप देगा। इतना कहना था कि यीशु का एक शिष्य उनकी गिरफ्तारी के लिए सशस्त्र सिपाहियों के साथ आता दिखाई दिया। न्यायालय में उन पर कई झूठे दोष लगाए गए। यहां तक की उन पर ईश्वर की निंदा करने का आरोप लगाकर उन्हें प्राणदंड देने के लिए जोर दिया गया।

मृत्यु के तीन दिन बाद पुनर्जीवित हो गए थे यीशु
न्यायालय के बाहर शत्रुओं ने लोगों की भीड़ एकत्रित की और उनसे कहा कि वे पुकार-पुकार कर यीशु को प्राणदंड देने की मांग करें। ठीक ऐसा ही हुआ। अंतत: उन्हें सूली पर लटका कर कीलों से ठोक दिया गया। मृत्यु के तीसरे दिन एक दैवीय चमत्कार हुआ और यीशु पुन: जीवित हो उठे। मृत्यु के उपरांत पुन: जीवित हो जाना उनकी दिव्य शक्तियों एवं क्षमताओं का प्रतीक था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios