Asianet News Hindi

दिवाली पूजा में देवी लक्ष्मी को लगाते हैं खील-बताशे का भोग, जानिए क्या है इसका कारण

कार्तिक मास की अमावस्या को दीपावली का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 14 नवंबर, शनिवार को है। दीपावली से जुड़ी अनेक परंपराएं हैं। ऐसी ही एक परंपरा है दिवाली पूजन में देवी लक्ष्मी को खील-बताशे का भोग लगाना। दिवाली की इस परंपरा के पीछे व्यवहारिक, दार्शनिक और ज्योतिषीय कारण छिपे हैं। 

In the Diwali Puja, Goddess Lakshmi is offered Kheel-Batashe, know the reason for this tradition KPI
Author
Ujjain, First Published Nov 11, 2020, 4:55 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. कार्तिक मास की अमावस्या को दीपावली का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 14 नवंबर, शनिवार को है। दीपावली से जुड़ी अनेक परंपराएं हैं। ऐसी ही एक परंपरा है दिवाली पूजन में देवी लक्ष्मी को खील-बताशे का भोग लगाना। दिवाली की इस परंपरा के पीछे व्यवहारिक, दार्शनिक और ज्योतिषीय कारण छिपे हैं, जो इस प्रकार हैं...

इसलिए देवी लक्ष्मी को चढ़ाते हैं खील-बताशे
- दीपावली धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति का त्योहार है। इस दिन मां लक्ष्मी का पूजन कर जीवनभर धन-संपत्ति की कामना की जाती है।
- खील-बताशे का प्रसाद किसी एक कारण से नहीं बल्कि उसके कई महत्व है, व्यवहारिक, दार्शनिक, और ज्योतिषीय ऐसे सभी कारणों से दीपावली पर खील-बताशे का प्रसाद चढ़ाया जाता है।
- खील यानी धान मूलत: धान (चावल) का ही एक रूप है। यह चावल से बनती है और उत्तर भारत का प्रमुख अन्न भी है।
- दीपावली के पहले ही इसकी फसल तैयार होती है, इस कारण लक्ष्मी को फसल के पहले भाग के रूप में खील-बताशे चढ़ाए जाते हैं।
- खील बताशों का ज्योतिषीय महत्व भी होता है। दीपावली धन और वैभव की प्राप्ति का त्योहार है और धन-वैभव का दाता शुक्र ग्रह माना गया है।
- शुक्र ग्रह का प्रमुख धान्य धान ही होता है। शुक्र को प्रसन्न करने के लिए हम लक्ष्मी को खील-बताशे का प्रसाद चढ़ाते हैं।

दिवाली के बारे में ये भी पढ़ें

पैसों के लिए धन लक्ष्मी और प्रमोशन के लिए करें गजलक्ष्मी की पूजा, ये हैं महालक्ष्मी के 8 रूप

धनतेरस 12 नवंबर कोः इस विधि से करें भगवान धन्वंतरि की पूजा, ये हैं 2 शुभ मुहूर्त

धनतेरस 12 नवंबर कोः इस शुभ दिन किस राशि वालों को क्या खरीदना चाहिए

धनतेरस पर घर लाएं इन 10 में से कोई 1 चीज, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण है कहां रखें...जानें...

दिवाली में देवी लक्ष्मी के साथ श्रीगणेश और देवी सरस्वती की भी पूजा की जाती है, क्या है इस परंपरा की वजह

दीपावली पर इन 12 नामों से करें देवी लक्ष्मी की पूजा, पूरी हो सकती है हर मनोकामना

दिवाली की रात करें एकाक्षी नारियल की पूजा, धन लाभ के लिए इसे तिजोरी में रखें

ये 10 काम करने वालों से रूठ जाती हैं देवी लक्ष्मी, ऐसे लोग जिंदगी भर बने रहेंगे गरीब

दीपावली से पहले घर से हटा दें ये 7 चीजें, इनसे बढ़ती है गरीबी और निगेटिविटी

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios