Asianet News Hindi

श्राद्ध में ब्राह्मणों को भोजन क्यों करवाया जाता है, जानें ऐसी ही 3 परंपराएं

हिंदू धर्म में श्राद्ध पक्ष को बहुत ही पवित्र समय माना गया है। श्राद्ध पक्ष से कई परंपराएं भी जुड़ी हैं। 

Know the traditions related to shradh
Author
Ujjain, First Published Sep 14, 2019, 5:23 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. वर्तमान समय में जब बच्चे श्राद्ध पक्ष की परंपराओं को देखते हैं तो उनके मन में सहज ही इन परंपराओं के पीछे छिपे भाव व मनोवैज्ञानिक पक्ष को जानने की उत्सुकता जाग उठती है, लेकिन कई बार संकोचवश बच्चे इन परंपराओं के बारे में अपने माता-पिता से पूछ नहीं पाते। बच्चों के मन की जिज्ञासा को शांत करने के उद्देश्य से आज हम श्राद्ध पक्ष से जुड़ी कुछ खास परंपराओं के बारे में बता रहे हैं। ये परंपराएं इस प्रकार हैं-

परंपरा 1: पितरों का तर्पण करते समय अंगूठे से ही पानी क्यों दिया जाता है?
उत्तर: श्राद्ध कर्म करते समय पितरों का तर्पण भी किया जाता है यानी पिंडों पर अंगूठे के माध्यम से जलांजलि दी जाती है। ऐसी मान्यता है कि अंगूठे से पितरों को जल देने से उनकी आत्मा को
शांति मिलती है। इसके पीछे का कारण हस्त रेखा से जुड़ा है।
हस्त रेखा शास्त्र के अनुसार, पंजे के जिस हिस्से पर अंगूठा होता है, वह हिस्सा पितृ तीर्थ कहलाता है। इस प्रकार अंगूठे से चढ़ाया गया जल पितृ तीर्थ से होता हुआ पिंडों तक जाता है। ऐसी
मान्यता है कि पितृ तीर्थ से होता हुआ जल जब अंगूठे के माध्यम से पिंडों तक पहुंचता है तो पितरों की पूर्ण तृप्ति का अनुभव होता है।

परंपरा 2: श्राद्ध में ब्राह्मणों को भोजन क्यों करवाया जाता है?
उत्तर: श्राद्ध में ब्राह्मणों को भोजन करवाना एक जरूरी परंपरा है। ऐसी मान्यता है कि ब्राह्मणों को भोजन करवाए बिना श्राद्ध कर्म अधूरा माना जाता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, ब्राह्मणों के साथ वायु
रूप में पितृ भी भोजन करते हैं। ऐसी मान्यता है कि ब्राह्मणों द्वारा किया गया भोजन सीधे पितरों तक पहुंचता है।
इसलिए विद्वान ब्राह्मणों को पूरे सम्मान और श्रद्धा के साथ भोजन कराने पर पितृ भी तृप्त होकर सुख-समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं। भोजन करवाने के बाद ब्राह्मणों को घर के द्वार तक पूरे
सम्मान के साथ विदा करना चाहिए क्योंकि ऐसा माना जाता है कि ब्राह्मणों के साथ-साथ पितृ भी चलते हैं।

परंपरा 3: श्राद्ध के भोजन में खीर क्यों बनाई जाती है?
उत्तर: जब भी कोई अतिथि हमारे घर आता है तो हम उसे स्वादिष्ट भोजन कराते हैं, उस भोजन में मिठाई भी अवश्य होती है। मिठाई के साथ भोजन करने पर अतिथि को पूर्ण तृप्ति का अनुभव
होता है। इसी भावना के साथ श्राद्ध में भी पितरों की पूर्ण तृप्ति के लिए खीर बनाई जाती है। मनोवैज्ञानिक भाव यह भी है कि श्राद्ध के भोजन में खीर बनाकर हम अपने पितरों के प्रति
आदर-सत्कार प्रदर्शित करते हैं।
श्राद्ध में खीर बनाने के पीछे एक पक्ष यह भी है कि श्राद्ध पक्ष से पहले का समय बारिश का होता है। पहले के समय में लोग बारिश के कारण अधिकांश समय घरों में ही व्रत-उपवास करके
बिताते थे। अत्यधिक व्रत-उपवास के कारण शरीर कमजोर हो जाता था। इसलिए श्राद्ध पक्ष के 16 दिनों तक खीर-पूड़ी खाकर व्रती अपने आप को पुष्ट करते थे। इसलिए श्राद्ध में खीर बनाने की
परंपरा है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios