Asianet News HindiAsianet News Hindi

Lohri 2022: 13 जनवरी को मनाया जाएगा लोहड़ी पर्व, ये है हंसने-गाने और खुशियां बांटने का उत्सव

हमारे देश में नित नए त्योहार मनाए जाते हैं। इन सभी के पीछे कोई-न-कोई धार्मिक, वैज्ञानिक या मनोवैज्ञानिक कारण छिपा होता है। ऐसा ही एक त्योहार है लोहड़ी (Lohri 2022)। ये मकर संक्रांति के एक दिन पहले यानी 13 जनवरी को हर साल मनाया जाता है।

Lohri 2022 Lohri Dulla Bhatti Makar Sankranti 2022 Lohri Traditions Lohri Life Management MMA
Author
Ujjain, First Published Jan 8, 2022, 4:08 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. लोहड़ी (Lohri 2022)पंजाब व जम्मू-कश्मीर आदि स्थानों का प्रमुख त्योहार है। लोहड़ी हंसने-गाने, एक-दूसरे से मिलने-मिलाने व खुशियां बांटने का उत्सव है। इस दिन और भी कई परंपराओं का पालन किया जाता है। लोग इकट्ठे होते हैं। अलाव जलाया जाता है। इसमें तिल-गुड़ आदि चीजें डाली जाती है। आगे जानिए लोहड़ी से जुड़ी खास बातें…

ऐसे मनाते हैं लोहड़ी का उत्सव
- मकर संक्रांति के एक दिन पहले जब सूरज ढल जाता है तब घरों के बाहर बड़े-बड़े अलाव जलाए जाते हैं। जनवरी की तीखी सर्दी में जलते हुए अलाव अत्यन्त सुखदायी व मनोहारी लगते हैं।
- स्त्री तथा पुरुष सज-धजकर अलाव के चारों ओर एकत्रित होकर भांगड़ा नृत्य करते हैं। चूंकि अग्निदेव ही इस पर्व के प्रमुख देवता हैं, इसलिए चिवड़ा, तिल, मेवा, गजक आदि की आहूति भी अलाव में चढ़ायी जाती है।
- नगाड़ों की ध्वनि के बीच यह नृत्य देर रात तक चलता रहता है। इसके बाद सभी एक-दूसरे को लोहड़ी की शुभकामनाएं देते हैं तथा आपस में भेंट बांटते हैं और प्रसाद वितरण भी होता है।
- प्रसाद में पांच मुख्य वस्तुएं होती हैं 
- तिल, गजक, गुड़, मूंगफली तथा मक्का के दाने। आधुनिक समय में लोहड़ी का पर्व लोगों को अपनी व्यस्तता से बाहर खींच लाता है। लोग एक-दूसरे से मिलकर अपना सुख-दु:ख बांटते हैं। यही इस उत्सव का मुख्य उद्देश्य भी है।

लोहड़ी से जुड़ा लाइफ मैनेजमेंट
लोहड़ी से पहले पंजाब आदि क्षेत्रों में किसान खेतों में काम में जुटा रहता है। व्यस्तता के कारण इस दौरान सामाजिक मेल-जोल नहीं हो पाता। मकर संक्रांति के आस-पास जब किसान का काम थोड़ा कम होता है, तब लोहड़ी का पर्व मनाया जाता है। इस पर्व में रिश्तेदार, मित्र, पड़ोसी आदि एक स्थान पर एकत्रित होते हैं और लोहड़ी के गीत गाते हैं, नाजते हैं और खुशियां मनाते हैं। लोहड़ी का पर्व हमें शिक्षा देता है कि जब भी समय मिले, हमें अपने मित्रों और संगे-संबंधियों से मेल-मिलाप करते रहना चाहिए।

 

ये खबरें भी पढ़ें...

Makar Sankranti पर 3 ग्रह रहेंगे एक ही राशि में, शनि की राशि में बनेगा सूर्य और बुध का शुभ योग
 

Makar Sankranti को लेकर ज्योतिषियों में मतभेद, जानिए कब मनाया जाएगा ये पर्व 14 या 15 जनवरी को?

Makar Sankranti 2022: 3 शुभ योगों में मनाया जाएगा मकर संक्रांति उत्सव, इस पर्व से शुरू होगा देवताओं का दिन

Makar Sankranti पर ये खास चीज खाने की है परंपरा, इससे शरीर को मिलती है ताकत, पुराणों में भी है इसका जिक्र

Makar Sankranti पर सूर्यदेव के साथ करें शनिदेव के मंत्रों का भी जाप, बढ़ेगा सम्मान और कम होंगी परेशानियां

14 जनवरी को मनाई जाएगी मकर संक्रांति, देश में अलग-अलग परंपराओं के साथ मनाया जाता है ये उत्सव

14 जनवरी को सूर्य बदलेगा राशि, खत्म होगा खर मास, इसके पहले 12 मंत्र बोलकर करें ये आसान उपाय

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios