Asianet News HindiAsianet News Hindi

रक्षाबंधन कथाएं: क्यों इंद्राणी ने इंद्र को और देवी लक्ष्मी ने दैत्यराज बलि को बांधा था रक्षासूत्र

रक्षाबंधन (3 अगस्त, सोमवार) हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। कालांतर में रक्षाबंधन का पर्व राखी के नाम से जाना जाने लगा।

Rakshabandhan Stories: Know why Indrani and Devi Lakshmi tied Rakhi to Indra and Bali respectively KPI
Author
Ujjain, First Published Jul 27, 2020, 2:34 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. राखी का त्योहार कब से मनाया जा रहा है इसके बारे में कुछ स्पष्ट प्रमाण नहीं मिलता, लेकिन भविष्यपुराण की एक कथा में इसका एक उदाहरण अवश्य मिलता है। यह कथा इस प्रकार है-

ये है कथा
एक बार देवता और दानवों में 12 वर्षों तक युद्ध हुआ, पर देवता विजयी नहीं हुए। तब इंद्र हार के भय से दु:खी होकर देवगुरु बृहस्पति के पास गए। गुरु बृहस्पति ने कहा कि युद्ध रोक देना चाहिए। तब उनकी बात सुनकर इंद्र की पत्नी महारानी शची ने कहा कि कल श्रावण शुक्ल पूर्णिमा है, मैं रक्षा सूत्र तैयार करूंगी। जिसके प्रभाव से इनकी रक्षा होगी और यह विजयी होंगे। इंद्राणी द्वारा व्रत कर तैयार किए गए रक्षा सूत्र को इंद्र ने मंत्रों के साथ ब्राह्मण से बंधवाया। इस रक्षा सूत्र के प्रभाव से इंद्र के साथ समस्त देवताओं की दानवों पर विजय हुई।

देवी लक्ष्मी ने बांधी थी राज बलि को राखी
जब भगवान विष्णु ने वामन अवतार लिया तो राजा बलि से तीन पग जमीन मांगी। भगवान वामन ने एक पग में स्वर्ग और दूसरे पग में पृथ्वी को नाप लिया। तीसरा पैर कहां रखे, इस बात को लेकर बलि के सामने संकट उत्पन्न हो गया। अगर वह अपना वचन नहीं निभाता तो अधर्म होता। आखिरकार उसने अपना सिर भगवान के सामने कर दिया और कहा तीसरा पग आप मेरे सिर पर रख दीजिए। वामन भगवान ने वैसा ही किया।
पैर रखते ही बलि सुतल लोक में पहुंच गया। बलि की उदारता से भगवान प्रसन्न हुए। उन्होंने उसे सुतल लोक का राज्य प्रदान किया। बलि ने वर मांगा कि भगवान विष्णु उसके द्वारपाल बनें। तब भगवान को उसे यह वर भी प्रदान करना पड़ा। पर इससे लक्ष्मीजी संकट में आ गईं। वे चिंता में पड़ गईं कि अगर स्वामी सुतल लोक में द्वारपाल बन कर रहेंगे तब बैकुंठ लोक का क्या होगा?
तब देवर्षि नारद ने उपाय बताया कि बलि की कलाई पर रक्षासूत्र बांध दो और उसे अपना भाई बना लो। लक्ष्मीजी ने ऐसा ही किया। उन्होंने बलि की कलाई पर राखी (रक्षासूत्र) बांधी। बलि ने लक्ष्मीजी से वर मांगने को कहा। तब उन्होंने विष्णु को मांग लिया। रक्षासूत्र से देवी लक्ष्मी को अपने स्वामी पुन: मिल गए।

 

 

 

 

राखी से पहले वायरल हुआ भाई-बहन का ये फनी वीडियो

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios