Asianet News HindiAsianet News Hindi

श्रीकृष्ण ने बताया है सुख-दुख के दिनों में किन बातों का रखना चाहिए ध्यान

श्रीमद्भागवत में सुखी और सफल जीवन के लिए कई नीतियां स्वयं श्रीकृष्ण द्वारा बताई गई हैं।

Shree Krishna has told what things should be taken care of in good and bad days
Author
Ujjain, First Published Aug 21, 2019, 3:51 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. श्रीमद्भागवत में बताया गया है कि सुख और दुख के दिनों में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। इन परिस्थितियों में हम कई बार मन को काबू में नहीं रख पाते हैं, जिससे हमारा ही नुकसान हो जाता है। जन्माष्टमी (23 अगस्त, शुक्रवार) के मौके पर हम आपको बता रहे हैं श्रीमद्भागवत में बताई गई ये बातें-

न प्रह्दष्येत प्रियं प्राप्त नोद्विजेत् प्राप्य चाप्रियम्।
स्थिरबुद्धिरसम्मूढो ब्रह्मविद् ब्रह्मणि स्थितः।।

पहली स्थिति सुख की
इस श्लोक में श्रीकृष्ण कहते हैं कि जब भी कोई व्यक्ति बहुत खुश होता है, तब वह अपने मन को वश में नहीं रखता, बल्कि खुद उसके वश में हो जाता है। अच्छे दिनों में कई बार हम ऐसी कुछ बातें कह जाते हैं, जो भविष्य में हमारे लिए पूरा कर पाना संभव न हो या ऐसा कुछ कर जाते हैं, जिसके बुरे परिणाम हमें भविष्य में झेलना पड़ सकते हैं। ये बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि अच्छे दिन हर समय नहीं रहते, इसलिए सुख के समय अपने मन को अपने वश में रखें। साथ ही अपने शब्दों और कार्यों का चयन सोच-समझ कर करें।

दूसरी स्थिति दुख की
कई लोग अपने बुरे समय से अपना धैर्य खो देते हैं और अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए ऐसे काम करने लगते हैं, जो उन्हें कभी नहीं करना चाहिए। दुख ही एक ऐसा समय होता है, जब भी मनुष्य आसानी से गलत रास्ते पर चलने को मजबूर हो जाता है। हमें ये बात समझनी चाहिए कि कैसा भी समय हो, वह हमेशा नहीं टिकता। अगर अपने बुरे समय में समझदारी से काम लें और किसी भी रूप में अधर्म न करें तो जल्द ही अच्छा समय भी आ जाता है। दुख और परेशानी में हमें मन को वश में रखकर सूझ-बूझ के साथ काम करना चाहिए। धैर्य से काम करना चाहिए।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios