Asianet News HindiAsianet News Hindi

त्रिपुरारी पूर्णिमा 19 नवंबर को, इसी दिन भगवान शिव ने किया था असुरों के त्रिपुर का नाश

धर्म ग्रंथों में भगवान शिव का एक नाम त्रिपुरारी भी बताया गया है। भगवान शिव के इस नाम के पीछे एक बहुत ही रोचक कथा है। इसी कथा के आधार पर कार्तिक मास की पूर्णिमा को त्रिपुरारी पूर्णिमा (Tripurari Purnima 2021) कहा जाता है। इस बार ये पूर्णिमा 19 नवंबर, शुक्रवार को है।

Tripurari Purnima 2021 on 19th November Hinduism Shivji destroyed the Tripura of Asuras MMA
Author
Ujjain, First Published Nov 6, 2021, 6:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. पुराणों में इस पूर्णिमा का विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता है कि इस दिन पूजा, व्रत और दान करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान शिव ने इसी तिथि पर तारकाक्ष, कमलाक्ष व विद्युन्माली नाम के असुरों के त्रिपुरों (तीन नगरों) का नाश किया था। त्रिपुरों का नाश करने के कारण ही भगवान शिव का एक नाम त्रिपुरारी भी प्रसिद्ध है। भगवान शिव ने कैसे किया त्रिपुरों का नाश, ये पूरी कथा इस प्रकार है…

भगवान शिव ने ऐसे किया था त्रिपुरों का विनाश
- शिवपुराण के अनुसार, दैत्य तारकासुर के तीन पुत्र थे- तारकाक्ष, कमलाक्ष व विद्युन्माली। जब भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय ने तारकासुर का वध कर दिया तो उसके पुत्रों को बहुत दुःख हुआ।
- उन्होंने देवताओं से बदला लेने के लिए घोर तपस्या कर ब्रह्माजी को प्रसन्न कर लिया। जब ब्रह्माजी प्रकट हुए तो उन्होंने अमर होने का वरदान मांगा, लेकिन ब्रह्माजी ने उन्हें इसके अलावा कोई दूसरा वरदान मांगने के लिए कहा।
तब उन तीनों ने ब्रह्माजी से कहा कि- आप हमारे लिए तीन नगरों का निर्माण करवाईए। हम इन नगरों में बैठकर सारी पृथ्वी पर आकाश मार्ग से घूमते रहें। एक हजार साल बाद हम एक जगह मिलें।
- उस समय जब हमारे तीनों पुर (नगर) मिलकर एक हो जाएं, तो जो देवता उन्हें एक ही बाण से नष्ट कर सके, वही हमारी मृत्यु का कारण हो। ब्रह्माजी ने उन्हें ये वरदान दे दिया। ब्रह्माजी का वरदान पाकर तारकाक्ष, कमलाक्ष व विद्युन्माली बहुत प्रसन्न हुए।
- ब्रह्माजी के कहने पर मयदानव ने उनके लिए तीन नगरों का निर्माण किया। उनमें से एक सोने का, एक चांदी का व एक लोहे का था। सोने का नगर तारकाक्ष का था, चांदी का कमलाक्ष का व लोहे का विद्युन्माली का।
- अपने पराक्रम से इन तीनों ने तीनों लोकों पर अधिकार कर लिया। इन दैत्यों से घबराकर इंद्र आदि सभी देवता भगवान शंकर की शरण में गए। देवताओं की बात सुनकर भगवान शिव त्रिपुरों का नाश करने के लिए तैयार हो गए।
- विश्वकर्मा ने भगवान शिव के लिए एक दिव्य रथ का निर्माण किया। चंद्रमा व सूर्य उसके पहिए बने, इंद्र, वरुण, यम और कुबेर आदि लोकपाल उस रथ के घोड़े बने। हिमालय धनुष बने और शेषनाग उसकी प्रत्यंचा।
- स्वयं भगवान विष्णु बाण तथा अग्निदेव उसकी नोक बने। उस दिव्य रथ पर सवार होकर जब भगवान शिव त्रिपुरों का नाश करने के लिए चले तो दैत्यों में हाहाकर मच गया। दैत्यों व देवताओं में भयंकर युद्ध छिड़ गया।
- जैसे ही त्रिपुर एक सीध में आए, भगवान शिव ने दिव्य बाण चलाकर उनका नाश कर दिया। त्रिपुरों का नाश होते ही सभी देवता भगवान शिव की जय-जयकार करने लगे। त्रिपुरों का अंत करने के लिए ही भगवान शिव को त्रिपुरारी भी कहते हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios