Asianet News Hindi

भगवान शिव के मस्तक पर चंद्रमा क्यों है, क्यों हैं उनकी 3 आंखें, महादेव शरीर पर भस्म क्यों लगाते हैं?

 महादेव श्मशान में रहते हैं अपने शरीर पर भस्म लगाते हैं। ऐसी और न जाने कितनी बातें हैं जो शिवजी को अन्य देवताओं से अलग बनाती है। दिखने में ये सभी चीजें असामान्य हैं, लेकिन इन सभी के पीछे लाइफ मैनेजमेंट के अनेक सूत्र छिपे हैं। आज हम आपको उन्हीं सूत्रों के बारे में बता रहे हैं
why does lord shiva wears moon on his head; some intersting facts related to lord shiva
Author
Ujjain, First Published Jul 30, 2019, 6:58 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
उज्जैन: भगवान शिव के मस्तक पर चंद्रमा शोभा देते हैं। एकमात्र शिव ही ऐसे देवता हैं, जिनकी तीन आंखें हैं। महादेव श्मशान में रहते हैं अपने शरीर पर भस्म लगाते हैं। ऐसी और न जाने कितनी बातें हैं जो शिवजी को अन्य देवताओं से अलग बनाती है। दिखने में ये सभी चीजें असामान्य हैं, लेकिन इन सभी के पीछे लाइफ मैनेजमेंट के अनेक सूत्र छिपे हैं। आज हम आपको उन्हीं सूत्रों के बारे में बता रहे हैं- 

क्यों है भगवान शिव के मस्तक पर चंद्रमा?

भगवान शिव का एक नाम भालचंद्र भी प्रसिद्ध है। भालचंद्र का अर्थ है मस्तक पर चंद्रमा धारण करने वाला। चंद्रमा का स्वभाव शीतल होता है। चंद्रमा की किरणें भी शीतलता प्रदान करती हैं। लाइफ मैनेजमेंट के दृष्टिकोण से देखा जाए तो भगवान शिव कहते हैं कि जीवन में कितनी भी बड़ी समस्या क्यों न आ जाए, दिमाग हमेशा शांत ही रखना चाहिए। यदि दिमाग शांत रहेगा तो बड़ी से बड़ी समस्या का हल भी निकल आएगा। ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन का कारक ग्रह माना गया है। मन की प्रवृत्ति बहुत चंचल होती है। भगवान शिव का चंद्रमा को धारण करने का अर्थ है कि मन को सदैव अपने काबू में रखना चाहिए। मन भटकेगा तो लक्ष्य की प्राप्ति नहीं हो पाएगी। जिसने मन पर नियंत्रण कर लिया, वह अपने जीवन में कठिन से कठिन लक्ष्य भी आसानी से पा लेता है।

क्यों हैं भगवान शिव की तीन आंखें?

धर्म ग्रंथों के अनुसार, सभी देवताओं की दो आंखें हैं, लेकिन एकमात्र शिव ही ऐसे देवता हैं जिनकी तीन आंखें हैं। तीन आंखों वाला होने के कारण इन्हें त्रिनेत्रधारी भी कहते हैं। लाइफ मैनेजमेंट की दृष्टि से देखा जाए तो शिव का तीसरा नेत्र प्रतीकात्मक है। आंखों का काम होता है रास्ता दिखाना और रास्ते में आने वाली मुसीबतों से सावधान करना। जीवन में कई बार ऐसे संकट भी आ जाते हैं, जिन्हें हम समझ नहीं पाते। ऐसे समय में विवेक और धैर्य ही एक सच्चे मार्गदर्शक के रूप में हमें सही-गलत की पहचान कराते हैं। यह विवेक अत:प्रेरणा के रूप में हमारे अंदर ही रहता है। बस जरूरत है उसे जगाने की।

शिव अपने शरीर पर भस्म क्यों लगाते हैं?

हमारे धर्म शास्त्रों में जहां सभी देवी-देवताओं को वस्त्र-आभूषणों से सुसज्जित बताया गया है, वहीं भगवान शंकर को सिर्फ मृग चर्म (हिरण की खाल) लपेटे और भस्म लगाए बताया गया है। भस्म (राख) शिव का प्रमुख वस्त्र भी है, क्योंकि शिव का पूरा शरीर ही भस्म से ढंका रहता है। शिव का भस्म रमाने के पीछे कुछ वैज्ञानिक तथा आध्यात्मिक कारण भी हैं।
भस्म की एक विशेषता होती है कि यह शरीर के रोम छिद्रों को बंद कर देती है। इसका मुख्य गुण है कि इसको शरीर पर लगाने से गर्मी में गर्मी और सर्दी में सर्दी नहीं लगती। भस्म त्वचा संबंधी रोगों में भी दवा का काम करती है। भस्मी धारण करने वाले शिव यह संदेश भी देते हैं कि परिस्थितियों के अनुसार अपने आपको ढालना ही मनुष्य का सबसे बड़ा गुण है।
Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios