Asianet News HindiAsianet News Hindi

गाड़ी ड्राइव करते समय गलती से भी ना करें ये मिस्टेक.. कटवाना पड़ेगा मोटा चालान

अगर आप ट्रैफिक रूल्स तोड़ने को सिर्फ गाड़ी के डॉक्यूमेंट्स, डीएल और इंश्योरेंस के पेपर सही नहीं होना, सीट बेल्ट नहीं पहनना, हेल्मेट नहीं लगाना, ओवर स्पीड में ड्राइव करना या फिर रेड लाइट जंप करना ही समझते हैं, तो आप गलत हैं। 

know those traffic rules which misused you face challan by traffic police apa
Author
First Published Sep 9, 2022, 3:15 PM IST

ऑटो डेस्क। ट्रैफिक रूल्स को इग्नोर करना सिर्फ जेब ही नहीं जान पर भी भारी पड़ सकता है। अगर आप रूल्स फॉलो नहीं करते तो पेनाल्टी यानी चालान भरने को तैयार रहिए। वैसे कुछ लोग चालान का मतलब गाड़ी के डॉक्यूमेंट्स, डीएल और इंश्योरेंस के पेपर सही नहीं होना, सीट बेल्ट नहीं पहनना, ओवर स्पीड में ड्राइव करना या फिर रेड लाइट जंप करना ही समझते हैं, जबकि इससे आगे भी बहुत कुछ हैं, जिसको लेकर ट्रैफिक पुलिस मोटा चालान काट सकता है। 

क्या आप जानते हैं कि गाड़ी जब बनकर शो रूम से निकलती है, उसके बाद उससे इतर आपने कुछ अलग से एक्सेसरीज लगवाई है, तो वह चालान का कारण बन सकती है। मसलन, आपने गाड़ी में वीडियो देखने के लिए स्क्रीन लगवाया है, तो ट्रैफिक पुलिस के लिए पांच हजार रुपए तक का चालान काटने के लिए यह पर्याप्त वजह होगी। यही नहीं, रात में सिटी में ड्राइव करते समय अगर आप हाईबीम का इस्तेमाल करते हैं, तो ट्रैफिक पुलिस एक हजार रुपए का चालान काट सकती है। हाइबीम का इस्तेमाल आप हाइवे पर किजिए या फिर डीपर देने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं। 

गाड़ी में लगा है एग्जास्ट सिस्टम तो तुरंत हटवा दें 
अगर आपने गाड़ी में एग्जास्ट सिस्टम लगवा रखा है तो संभव है कि आपकी गाड़ी सड़क पर चलने के बजाय ट्रैफिक पुलिस थाने में तब तक खड़ी रहे, जब तक कि आप उसे उतरवा नहीं दें। साथ ही ट्रैफिक पुलिस इस क्राइम के लिए आपसे दस हजार रुपए का मोटा चालान भी वसूल सकती है। इसलिए अगर सड़क पर निकल रहे हैं और गाड़ी में एग्जास्ट सिस्टम लगा है, तो जितनी जल्दी हो सके, निकलवा दीजिए या फिर चालाना भरने और गाड़ी सीज कराने के लिए तैयार रहिए। 

इस फिजूल काम से बचें, वरना गाड़ी होगी सीज 
गाड़ी को रैप करना भी बड़े पाप में शामिल है। बहुत से लोग शौक में गाड़ी का कलर चेंज कराने या फिर मल्टी कलर कराने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा कुछ लोग अलग कलर में री-पेंट कराने की कोशिश भी करते हैं। ये फिजूल काम ना ही करें तो बेहतर होगा, क्योंकि इससे आपकी आपकी गाड़ी सीज भी हो सकती है और मोटा चलान भी कट सकता है, क्योंकि आपके गाड़ी के पेपर में कंपनी से आई कलर का जिक्र होता है और आपने इससे छेड़छाड़ की, तो फिर गए काम से। 

ऑटो में खबरें और भी हैं-

बाजार में मौजूद इन गाड़ियों को टक्कर देगी महिंद्रा की एक्सयूवी-400 इलेक्ट्रिक, जानिए इसकी खूबियां 

कार में चार्ज करना चाहते हैं लैपटॉप.. अपनाइए ये आसान तरीके, अब सफर के दौरान भी कर सकेंगे काम

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios