Asianet News Hindi

हेलिकॉप्टर से निगरानी, भूलकर भी नहीं कर पाएंगे ये काम; गलती की तो महामारी एक्ट में नपेंगे नेताजी

पूरी चुनावी प्रक्रिया के दौरान नेताओं को कोविड 19 प्रोटोकाल (Covid-19 Protocal) फॉलो करना होगा। धार्मिक स्थलों का चुनाव कार्य के लिए इस्तेमाल पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

Bihar Election Monitoring by helicopter for any mistake Netaji will caught in COVID 19 epidemic act
Author
Patna, First Published Sep 27, 2020, 12:24 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना। कोरोना जैसी महामारी (COVID 19 Epidemic) के बीच बिहार में विधानसभा (Bihar Polls 2020)  चुनाव हो रहे हैं। इस बार आदर्श आचार संहिता में हेल्थ सुरक्षा के मद्देनजर भी कई फेरबदल किए गए हैं। चुनाव आयोग (ECI) नहीं चाहता कि साफ-सुथरे तरीके से राजनीतिक प्रक्रिया पूरी कराने के क्रम में किसी तरह की गड़बड़ हो। इस बार कोरोना को लेकर सख्त प्रोटोकाल बनाए गए हैं। हेलिकॉप्टर से चप्पे-चप्पे की निगरानी होगी और वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। 

जो प्रोटोकाल बनाए गए हैं उन्हें तोड़ने वालों के खिलाफ महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। राज्य में चुनाव की घोषणा के साथ ही कोड ऑफ कंडक्ट लागू हो चुका है। राज्य के सभी जिलों के जिलाधिकारी संबंधित अफसरों को निगरानी के लिए जरूरी दिशा निर्देश देने के साथ-साथ मीटिंग कर रहे हैं। हवाई यात्राओं से राज्य आने जाने वालों के संदिग्ध बैग की निगरानी की जाएगी। इतना ही नहीं इनकम टैक्स और इंटेलिजेंस की टीम को भी दिशा निर्देश के साथ ज़िम्मेदारी सौंपी गई है। 

धार्मिक स्थलों का चुनावी इस्तेमाल बैन 
पूरी चुनावी प्रक्रिया के दौरान नेताओं को कोविड 19 प्रोटोकाल (Covid-19 Protocal) फॉलो करना होगा। इसके अलावा कोड ऑफ कंडक्ट की दूसरी अनिवार्य चीजों को भी फॉलो करना ही होगा। इसमें धार्मिक स्थलों का चुनाव कार्य के लिए इस्तेमाल को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। विधानसभा चुनाव के दौरान नेताओं की हेट स्पीच (Hate Speech) पर भी आयोग की पैनी नजर होगी। 

हेट स्पीच पर चुनाव आयोग की पैनी नजर 
चुनाव के लिए आयोग ने जो गाइडलाइन (EC Guideline For Bihar Polls) जारी की है उसके मुताबिक उम्मीदवारों और पार्टियों के नेताओं को साफ कहा गया है कि कैम्पेन या भाषण के दौरान किसी पर भी व्यक्तिगत आक्षेप नहीं किए जाएंगे। ऐसा करने वालों के खिलाफ नियमों के तहत कार्रवाई की जाएगी। आयोग ने जाति, धर्म, संप्रदाय को लेकर भाषण देने से बचने को कहा है। जाति, धर्म और कसी संप्रदाय को लेकर की गई संवेदनशील टिप्पणी पर नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

बताते चलें कि राज्य में 243 विधानसभा सीटों के लिए तीन चरणों में चुनाव की घोषणा हो चुकी है। पहले चरण के लिए नोटिफिकेशन अगले हफ्ते जारी कर दिया जाएगा। 10 नवंबर को विधानसभा के नतीजे आएंगे।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios