Asianet News Hindi

RJD के युवा नेता के पास मिली AK-47, लड़ना चाहता था विधानसभा चुनाव; हथियारों को देख पुलिस सन्न

चुनाव से पहले गिरफ्तार किए गए आरजेडी नेता का नाम बिट्टू सिंह (Bittu Singh) उर्फ अनिकेत सिंह (Aniket Singh) बताया जा रहा है। उसके साथ दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

STF Recovered AK-47 from RJD's leader in purnia before bihar election 2020
Author
Purnia, First Published Sep 30, 2020, 1:07 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar assembly Polls) से पहले लालू यादव (Lalu Yadav) की पार्टी आरजेडी  (RJD) के एक युवा नेता के पास से खतरनाक हथियारों की बरामदगी हुई है। हथियारों को देख पुलिस विभाग और प्रशासन के आला अफसर सन्न हैं। एसटीएफ़ (STF) और सीआईडी (CID) की अंडर कवर टीम ने कई राउंड फायरिंग के बाद आरजेडी नेता को दबोचा। आरजेडी नेता का नाम बिट्टू सिंह (Bittu Singh) उर्फ अनिकेत सिंह (Aniket Singh) बताया जा रहा है। उसके साथ दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

जानकारी के मुताबिक एक अस्पताल में आरजेडी नेता इलाज के लिए पूर्णिया (Purnia) आया था। वह क्रेटा में सवार था। सिविल ड्रेस में एसटीएफ और सीआईडी के अफसर उसका पीछा कर रहे थे। गिरफ्तारी से पहले फायरिंग की भी खबरें हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस टीम भी मौके पर पहुंची। मगर उससे पहले ही आरोपियों को एसटीएफ कस्टडी में लेकर निकल चुकी थी। 

एसपी ने क्या बताया?
बिट्टू के पास से हाथ से बनी एके-47, कार्बाइन और इंसास की मैगजीन सहित 66 कारतूस मिले हैं। घटना को लेकर एसपी विशाल शर्मा (SP Vishal Sharma) ने कहा- बिट्टू सिंह दर्जनभर मामलों में अभियुक्त है। उसे तड़ीपार किया गया था। खुफिया सूचना के आधार पर एसटीएफ ने पूर्णिया में कार्रवाई कर आरोपियों को मैक्स-7 रोड से गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी से पहले एसटीएफ़ को 5 राउंड गोलियां भी चलाने की खबरें हैं। बिट्टू सिंह फिलहाल कटिहार में रह रहा था। 

आरजेडी से चुनाव लड़ना चाहता है बिट्टू सिंह 
बिट्टू सिंह इलाज के लिए आया था। इस बीच बिट्टू की पत्नी ने बताया कि उसके पति आरजेडी के युवा नेता हैं और धमदाहा विधानसभा (Dhamdhaha assembly seat) से चुनाव लड़ना चाहते थे। लेकिन विपक्षी नेताओं ने साजिश रचकर उन्हें गिरफ्तार करवा दिया। इस बीच संबंधित अफसर यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि उसके पास से खतरनाक हथियार कहां से आएं और वो इन्हें लेकर पूर्णिया में क्यों घूम रहा था। 

बताते चलें कि राज्य में 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव की घोषणा हो चुकी है। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन लगातार कार्रवाईयां कर रहा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios