गोपालगंज (Bihar) । किशोर की जेब में 20 हजार रुपए देखने के बाद दोस्तों की नियत बिगड़ गई। तीन दोस्तों ने मिलकर 750 रुपये में तीन चाकू खरीद और उसकी हत्या कर रुपए लूट लिए। इसके बाद अपने गुनाहों को छिपाने के लिए पेशेवर बदमाशों की तरह उसके शव को ठिकाने लगा दिए, लेकिन, सर्विलांस के जरिए पुलिस ने उन्हें 36 घंटे के अंदर ही गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि किशोर से परिवार के लोग 20 हजार रूपए व्यवसायी के पास पैसा जमा करने के लिए थे। यह घटना नगर थाना के मुकेरी टोला की है।

यह है पूरा मामला
सिवान थाना क्षेत्र के बड़हरिया निवासी परसुराम साह का पुत्र बिट्ट (16) बचपन से ही मुकेरी टोला में अपने नाना मदन साह के घर रहकर पढ़ाई करता था। गुरुवार की शाम बुट्टू 20 हजार रुपये लेकर सिवान में एक व्यवसायी के पास जमा करने के लिए गया था। सिवान जाते समय वह रास्ते लापता हो गया। 

नहर से मिली थी लाश
काफी खोजबीन के दौरान मुकेरी टोला के पास ही सारण नहर के बाइपास के समीप बिट्टू शव अगले दिन देर शाम मिलने की सूचना मिली। जहां उसका शव जाल में लपेटा हुआ था और चाकुओं से गोद कर उसकी हत्या की गई थी। गोपालगंज एसपी मनोज कुमार तिवारी ने बताया कि 28 मई को बिट्टू कुमार के अपहरण का मामला नगर थाना में दर्ज किया गया था। 29 मई को बिट्टू कुमार का शव सारण नहर के बाइपास के समीप मिला था जिसकी हत्या चाकू से गोदकर की गई थी।

ऐसे खुला राज
पुलिस ने शक के आधार पर आरोपी रोहित कुमार, बिट्टू कुमार और राजू कुमार को गिरफ्तार कर लिया, जो आरोपी नगर थाना के मुकेरी टोला के ही रहने वाले हैं और बिट्टू कुमार के दोस्त थे। कड़ाई से पूछताछ किया तो हत्या की वजह सामने आ गई। पुलिस ने उनके पास से लूट के 20 हजार रुपये हत्या में उपयोग में लाए गए तीन चाकू और तीन मोबाइल को भी बरामद कर लिया गया है।