कैमूर (Bihar) । राइस मिल में चावल के ढेर में शराब की बड़ी खेप छिपाई गई थी। जिसका भंडाफोड़ पुलिस ने कर दिया है। पुलिस के मुताबिक यहीं से शराबों की तस्करी की जाती थी। जिसकी गोपनीय सूचना मिली। पुलिस ने जब राइस मिल में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला तो पूरी कहानी सामने आ गई। जिसे देखकर पुलिस भी हैरान हो गई, फिलहाल पुलिस ने इस मामले में मिल संचालक सहित पांच मजदूरों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, जबकि दो आरोपी अभी भी फरार हैं। ये आरोपी रोहतास के रहने वाले बताए जाते हैं।

यह है पूरा मामला 
कैमूर एसपी दिल नवाज़ अहमद ने के मुताबिक गोपनीय तरीके से सूचना मिली कि कुदरा के एक राइस मिल में शराब की बड़ी खेप रखी जा रही है। इस दौरान पुलिस मौके पर पहुंची। लेकिन, उसे कुछ नहीं दिखाई दिया। इस दौरान वहां लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला तो शराब चावल में छिपाकर रखने की बात सामने आई। जहां से पुलिस ने 650 बोतल शराब बरामद किया गया।

राइस मिल संचालक ने सुनाई ये कहानी
कुदरा सौर्य राइस मिल के संचालक अजय कुमार सिंह ने बताया कि शराब कैसे मिल में पहुंचा उन्‍हें नहीं पता। दावा किया कि वह एक सप्ताह से राइस मिल पर नहीं गए और मिल को मुंशी और मजदूरों के जिम्मे छोड़कर घर पर थे। राइस मिल में लगे सीसीटीवी को देखने पर मामला समझ में आया कि मुंशी के मिलीभगत से राइस मिल में शराब रखा गया था, जो गलत है।