Asianet News HindiAsianet News Hindi

नीतीश कुमार की बड़ी घोषणा, बारिश से नुकसान हुए फसल की क्षति को पूरा करेगी सरकार

जल जीवन हरियाली यात्रा में मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कैमुर के दौरे पर पहुंचे। जहां उन्होंने कई विकास कार्यों का शिलान्यास करते हुए किसानों के लिए एक बड़ी घोषणा की। 
 

cm nitish kumar visited kaimur in jal jeevan hariyali yojna
Author
Kaimur, First Published Dec 17, 2019, 4:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कैमुर। जल-जीवन-हरियाली यात्रा के क्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कैमुर जिले का दौरा किया। जहां उन्होंने सात निश्यच योजना के तहत हो रहे कार्यों का निरिक्षण किया। साथ ही प्रदूषण कम करने और पर्यावरण को संरक्षित रखने के लिए शुरू की गई जन जीवन हरियाली योजना की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने किसानों के एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि बारिश से फसल से पहुंचे नुकसान की भरपाई सरकार करेगी। नीतीश ने कहा, "दो दिनों से बेमौसम की बारिश हो रही है। ये बारिश कई प्रदेशों में हुई है। इस बारिश से किसानों को हुई क्षति को सरकार पूरा करेगी " मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि हमने आपदा आयुक्त को निर्देश दिया है। बता दें कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण बीते दो दिनों में बिहार के कई हिस्सों में बारिश हुई थी।

मुण्डेश्वरी धाम में कई विकास कार्यों का शिलान्यास
अपनी इस यात्रा के दौरान सीएम ने विपक्षी पार्टी पर तंज कसते हुए कहा कि पहले राज्य में आपदा के समय कैसे और किसे फायदा मिलता था, सबको पता है। हमने इस साल बाढ़ और सूखे में किसानों की काफी मदद की। राज्य के खजाने पर पहला अधिकार आपदा पीड़ितों का है। कैमुर के इस दौरे में नीतीश कुमार मुण्डेश्वरी धाम भी पहुंचे। जहां उन्होंने 66897.69 लाख रुपए की लागत से होने वाले विकास कार्यों का शिलान्यास और उद्घाटन किया। 

हरियाली मिशन सरकार की महत्वकांक्षी योजना
जल जीवन हरियाली मिशन पर नीतीश कुमार ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में बारिश में कमी आई है। बिहार में पहले औसत वर्षापात 1200 से 1500 मिमी होता था। लेकिन पिछले 13 वर्षों से राज्य में औसत वर्षापात 901 रहा है। उन्होंने कहा कि जल है तभी हरियाली है, तभी जीवन है। बता दें कि राज्य सरकार के महत्वकांक्षी जल जीवन हरियाली मिशन के तहत पूरे राज्य में पोखर, कुएं आदि का जीर्णोद्धार किया जा रहा है। इस मिशन के तहत सरकारी भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग का काम किया जा रहा है। साथ ही बडे़ पैमाने पर पौधरोपण किया जाना है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios