पटना (Bihar) । बिहार में कोरोना संकट बढ़ता जा रहा है। बुधवार को एक बार फिर 3741 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई, जिससे कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 90,553 पहुंच गई। ऐसे में साधु-संत भी इस बीमारी से राज्य को बचाने के लिए उपासना कर रहे हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर बाबा बर्फानी ने राज्य को कोरोना संकट से बचाने के लिए गंगा किनारे अग्नि उपासना की। उन्होंने एक घंटे तक हठयोग किया, जिसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।

इस तरह किया पूजा
बाबा बर्फानी कलेक्टरेट घाट पर ही कुटिया बनाकर रहते हैं। आपदा के समय वे पहले भी अग्नि उपासना कर चुके हैं। इसी साल मई में और बिहार में दो साल पहले आए सूखे के समय भी बाबा बर्फानी ने अग्नि उपासना की थी। इस बार बाबा बर्फानी गंगा किनारे कलेक्टरेट घाट पर बैठे थे। उन्होंने अपने शरीर के चारों तरफ गोइठा (कंडे) और कपूर रख लिए। उसमें अग्नि प्रज्ज्वलित की। इसके बाद सिर पर हांडी रखकर हुमाद किया। एक घंटे बाद पूजन कर हठयोग को समाप्त किया।

बाबा ने कही ये बातें
पूजन के बाद बाबा बर्फानी ने कहा कि कोरोना महामारी तेजी से फैल रहा है। दवाओं पर भी काम चल रहा है लेकिन, इससे बचने के लिए भगवान के आशीर्वाद और दुआओं की भी जरूरत है। इससे मन को हिम्मत मिलती है जिससे हम किसी भी बीमारी को हरा सकते हैं। हठयोग से एक ऊर्जा उत्पन्न होती है। यह ऊर्जा किसी भी बीमारी को हराने में सक्षम है।

 

465 लोगों की हो चुकी है मौत
बिहार में कोरोना से कुल होने वाली मौतों की संख्या 465 है। आंकड़ों पर नजर डालें तो  इनमें से अकेले 90 पटना से हैं। इसके अलावा भागलपुर में 39 गया में 29 रोहतास में 24 मुंगेर में 23 नालंदा में 22 मुजफ्फरपुर में 18 भोजपुर एवं वैशाली में 17 17 पूर्वी चंपारण में 16 समस्तीपुर में 14 सारण में 13 बेगूसराय नवादा एवं पश्चिम चंपारण में 1111 दरभंगा एवं सिवान में 10-10 लोगों की मौत हुई है।