Asianet News HindiAsianet News Hindi

4 महीने से गायब था हेडमास्टर, पिता के लिए बेटा स्कूल में करता था ये काम; पकड़ा गया तो मिला ऐसा सबक

शेखपुरा के एक सरकारी स्कूल में हेडमास्टर पिता के बदले में पुत्र के काम करने का मामला सामने आया है। ग्रामीणों ने मंगलवार को उक्त युवक को बंधक बनाकर जमकर हंगामा किया। बताया जाता है कि स्कूल के हेडमास्टर चार महीने से स्कूल नहीं आए।

villagers hostage the headmasters son in the school in sheikhpura
Author
Sheikhpura, First Published Dec 17, 2019, 3:14 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

शेखपुरा। अधिकारियों के निरीक्षण के बाद भी बिहार में सरकारी स्कूलों की स्थिति नहीं सुधर रही है। हाल ही में मोतीहारी में डीएम ने शिक्षिक पत्नी के बदले स्कूल में उनके पति को पढ़ाते पकड़ा था। अब ऐसा ही एक मामला शेखपुरा जिले से सामने आया है। जहां सरकारी स्कूल से हेडमास्टर बीते चार महीनों से गायब थे। लेकिन उनका पुत्र प्रतिदिन स्कूल जाकर उनकी हाजिरी बना दिया करता था। हाजिरी बनी रहने से शिक्षक पिता बिना स्कूल गए ही वेतन का लाभ उठा रहे थे। मंगलवार को पिता की हाजिरी बनाने स्कूल पहुंचे हेडमास्टर के बेटे को ग्रामीणों ने रंगेहाथ दबोच लिया। इसके बाद लोगों ने प्रधानाध्यापक के पुत्र को बंधक बना लिया। इसके बाद ग्रामीण स्कूल की लचर व्यवस्था के विरोध में हंगामा करने लगे। 

250 विद्यार्थियों के लिए सात शिक्षकों की तैनाती
घटना शेखपुरा प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय खोरमपुर की है। इस स्कूल में करीब 250 विद्यार्थी नामांकित है। हेडमास्टर के साथ स्कूल में कुल सात शिक्षक तैनात है। लेकिन मंगलवार को जब ग्रामीणों का हंगामा शुरू हुआ तब स्कूल में मात्र दो शिक्षिका मिली। ग्रामीणों का आरोप है कि हेडमास्टर संतोष कुमार बीते चार महीनों से स्कूल नहीं आ रहे हैं। उनके बदले में उनका पुत्र सुमन कुमार हाजिरी बनाकर हेडमास्टर की ड्यूटी निभा रहा था। वार्ड सदस्य अजय कुमार समेत विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के अभिभावकों ने बताया कि सुमन ही बीआरसी  और सीआरसी की बैठकों में शामिल होता था। 

गड़बड़झाला में शामिल हैं वरीय अधिकारी 
हंगामा कर रहे स्थानीय लोगों ने बताया कि हेडमास्टर संतोष कुमार की इस कारस्तानी में शिक्षा विभाग के वरीय अधिकारी भी शामिल हैं। ग्रामीणों ने कहा कि चार महीने से कोई शिक्षक स्कूल नहीं आए और उसको वेतन मिलता रहे, यह अधिकारियों के मेल के बिना संभव नहीं है। दूसरी ओर बंधक बनाए गए सुमन ने बताया कि पिता को खाना पहुंचाने के लिए स्कूल बनाने आया था। हालांकि वो अपने झूठ में फंस गया। उसने आगे बताया कि पिता के गांव चले जाने के कारण स्कूल में उन्हें अनुपस्थित बताया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios