Asianet News HindiAsianet News Hindi

होटल ताज के हेड शेफ का खुलासा, गद्दारी न करता एक सांसद तो बच सकती थी 16 और लोगों की जान

फिल्म 'होटल मुंबई' 2009 में बनी डॉक्यूमेंट्री ‘सर्वाइविंग मुंबई’ पर बेस्ड है। फिल्म में दिखाया गया है कि गेस्ट को बचाने के लिए होटल स्टाफ कैसे अपनी जान को भी दांव पर लगा देता है। होटल में आतंकियों की एंट्री और कुछ रियल सीन भी दिखाए गए हैं। 

Hotel Taj Head Chef Hemant Oberoi Revealed  Story of mumbai attack
Author
Mumbai, First Published Nov 26, 2019, 1:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई। अनुपम खेर और स्लमडॉग मिलियनेयर के एक्टर देव पटेल की फिल्म 'होटल मुंबई' 29 नवंबर को रिलीज हो रही है। फिल्म में अनुपम खेर ने ताज होटल के हेड शेफ हेमंत ओबेरॉय का रोल प्ले किया है, जो अपने स्टॉफ को कहते हैं कि गेस्ट भगवान की तरह हैं। बता दें कि फिल्म में 26/11 को मुंबई में हुए आतंकी हमले से जुड़े कई राज भी खुलेंगे। होटल के हेड शेफ हेमंत ओबेरॉय ने एक इंटरव्यू में इस हमले से जुड़े एक रहस्य को उजागर किया। एंथोनी मारस के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में देव पटेल एक सिख शेफ अर्जुन का रोल प्ले कर रहे हैं। 

हेमंत ओबेरॉय के मुताबिक, फिल्म में एक गद्दार सांसद का प्लॉट भी है, जिसने आतंकियों के हैंडलर्स को बताया था कि होटल में लोग कहां-कहां मौजूद हैं। हमने खुद आतंकियों के मुंह से सुना था और वो पंजाबी में बात कर रहे थे। अगर हमारे ही देश का एक नेता गद्दारी नहीं करता तो कम से कम 16 लोगों की जान बचाई जा सकती थी। उस सांसद को लोग जानते भी हैं, लेकिन अब तक उसके खिलाफ कोई एक्शन नहीं हुआ है। 

 

वहीं फिल्म के एक्टर देव पटेल के मुताबिक, ''मेरे लिए यह फिल्म इस होटल के बहादुर हीरोज की कहानी है। इस फिल्म की खूबसूरती ये है कि जिन होटलकर्मियों को हम दोबारा कभी पलटकर देखते भी नहीं हैं, उन्हीं ने इंसानियत की मिसाल देते हुए कई लोगों की जान बचाई। होटल कर्मचारियों ने मेहमानों को बचाने के लिए अपनी जान की बाजी लगा दी, क्योंकि उनके लिए यह महज होटल नहीं, बल्कि पवित्र जगह था। बता दें  कि यह फिल्म 2009 में बनी डॉक्यूमेंट्री ‘सर्वाइविंग मुंबई’ पर बेस्ड है।

फिल्म के ट्रेलर में दिखाया गया है कि समंदर के रास्ते आतंकवादी मुंबई में घुसते हैं। इसके साथ डायलॉग सुनाई देता है, 'वक्त आ गया है, याद रखना पूरी दुनिया तुम्हें देख रही है।' इसके बाद अनुपम खेर कहते हैं, 'हमारे ताज में गेस्ट इज गॉड'। फिल्म में यही दिखाया गया है कि गेस्ट को बचाने के लिए होटल स्टाफ अपनी जान को भी दांव पर लगा देता है। होटल में आतंकियों की एंट्री और कुछ रियल सीन भी दिखाए गए हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios