Asianet News Hindi

विद्या बालन की शॉर्ट फिल्म 'नटखट' ऑस्कर 2021 की रेस में हुई शामिल, जानें वो 6 वजहें

विद्या बालन स्टारर शॉर्ट फिल्म 'नटखट' ऑस्कर 2021 की रेस में शामिल हो चुकी है और अब सर्वश्रेष्ठ लघु फिल्म (लाइव ऐक्शन) के लिए अकादमी पुरस्कार की दौड़ में शामिल हुई है। रॉनी स्क्रूवाला और विद्या बालन द्वारा निर्मित और शान व्यास द्वारा डायरेक्टेड, नटखट एक 33 मिनट की छोटी-सी फिल्म है।

Short film natkhat Starring vidya Balan Reaches oscar 2021 race KPY
Author
Mumbai, First Published Feb 5, 2021, 11:12 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. विद्या बालन स्टारर शॉर्ट फिल्म 'नटखट' ऑस्कर 2021 की रेस में शामिल हो चुकी है और अब सर्वश्रेष्ठ लघु फिल्म (लाइव ऐक्शन) के लिए अकादमी पुरस्कार की दौड़ में शामिल हुई है। रॉनी स्क्रूवाला और विद्या बालन द्वारा निर्मित और शान व्यास द्वारा डायरेक्टेड, नटखट एक 33 मिनट की छोटी-सी फिल्म है, जो ये रेखांकित करती हैं कि घर वो है जहां हम उन मूल्यों को सीखते हैं, जो हमें आकार देते हैं और हमें बनाते हैं, जो हम हैं। विद्या बालन ने फिल्म में एक हाउसवाइफ का किरदार निभाया है, जो कि मेल डॉमिनेटिंग परिवार में रह रही है। ऐसे में आइए जानते हैं उन 6 वजहों के बारे में, जिनकी वजह से फिल्म को ऑस्कर के लिए नॉमिनेट किया गया है...

1. पावरफुल स्टोरी

निर्माता विद्या बालन की शॉर्ट फिल्म 'नटखट' की स्टोरी पावरफुल है। इसमें पितृसत्तात्मक सेटअप में एक गृहिणी की भूमिका में दिखाया गया है। मूवी में मां-बेटे के खूबसूरत रिश्ते को दिखाया गया है। प्रत्येक झटके के साथ उथल-पुथल हो जाता है और एक सुखद स्पर्श के साथ सेटल हो जाता है।

2. एक्टिंग 

फिल्म विद्या बालन ने अपने किरदार को बखूबी दिखाया है। उन्होंने अपनी भूमिका के साथ न्याय किया है। मां-बेटे के बीच के रिश्ते को उन्होंने पर्दे पर शानदार तरीके से दिखाया है।  

3. डायरेक्शन

वहीं, फिल्म का डायरेक्शन शानदार किया गया है। 33 मिनट की इस लघु फिल्म में रिश्ते की बारिकियों को बेहतरीन तरीके से दिखाया गया है।

4. सीख

फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह मेल डॉमिनेटिंग फैमिली में रह रही विद्या जिंदगी की कठिनाइयों को पार कर अपने बेटे के साथ रिश्ता निभाती है। फिल्म के जरिए मैसेज देने की कोशिश की गई है कि घर में ही इंसान जीवन के मूल्य सीखता है, जो उसे सही मायने में आकार देने का काम करते हैं। घर पर बच्चों का पालन-पोषण ही असल जिंदगी में शिक्षा की शुरुआत है।

 5. मां-बेटे के रिश्ते की बारिकियां

33 मिनट की इस फिल्म को ऑस्कर के लिए चुने जाने की एक वजह मां-बेटे के रिश्ते की बारिकियां भी है, जो कि समाज के लोगों को इससे रूबरू कराती है।

6. महिला लीड स्टोरी 
 
फिल्म 'नटखट' एक महिला लीड स्टोरी वाली लघु फिल्म है। ऑस्कर की रेस में आने की एक वजह ये भी है कि कैसे मेल डॉमिनेटिंग फैमिली में एक महिला अपने बच्चे का पालन-पोषण करती है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios