Asianet News HindiAsianet News Hindi

इन तीन शक्‍ति‍शाली महिलाओं में से एक बन सकती है देश की पहली Chief Economic Advisor

चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (Chief Economic Advisor) का पद हमेशा से भारत में पुरुषों के पास ही रहा है। अब नए सीईए के लिए तीन नाम सामने आए हैं वो तीनों ही महिलाएं हैं। इन तीनों में कोई भी देश कका सीईए बनेगी वो देश की ऐसी पहली महि‍ला होगी।

One of these three powerful women can become the country's first Chief Economic Advisor
Author
New Delhi, First Published Dec 7, 2021, 5:27 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्‍क। नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi) देश को पहले ही पहली पूर्ण महिला फाइनेंस मिनिस्‍टर (First Female Finance Minister) दे चुकी हैं। अब बारी देश की पहली चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (Chief Economic Advisor) की है।  मौजूदा सीईए कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम (CEA Krishnamurthy Subramaniam) का तीन साल का कार्यकाल पूरा हो गया है। उसके बाद देश को अगला सीईए की जरुरत है। ऐसे में तीन नाम जो सामने आए हैं वो महिलाओं के ही हैं। तीनों ही महिलाओं में से दो आईपीएफ जैसे संस्‍थान में काम कर रही हैं या कर चुकी है। आइए आपको भी बताते हैं आख‍िर तीनों महिलाएं हैं कौन।

आईएमएफ की सेकंड सुपर बॉस गीता गोपीनाथ
- गीता गोपीनाथ भारतीय मूल की अमरीकी अर्थशास्त्री हैं।
- वह आईएमएफ में की चीफ इकोनॉमिस्ट हैं।
- जनवरी में वो आईएमएफ की फर्स्ट डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर का पद लेंगी।
- इससे पहले वो अपना कार्यकाल समाप्‍त करने के बाद हॉवर्ड लौटने वाली थीं।
- कोरोना महामारी से निपटने में भारत की प्रशंसा करना उनकी सीईए पद के लिए मजबूत बना रहा है।
- उनकी अमरीकी नागरिकता उनके इस रास्‍ते में बड़ा पत्‍थर नजर आ रहा है।

आरबीआई की पूर्व एमपीसी मेंबर डॉ. पमी दुआ
- डॉ. पमी दुआ साल 2016 में चार साल के लिए आरबीआई की एमपीसी की मेंबर रही।
- वह एमपीसी की पहली महिला मेंबर भी रहीं।
- ऐसे में सरकार उनके नाम पर भी विचार कर रही है। क्‍योंकि सरकार से उनका पुराना बांड है।
- उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पढ़ाई की है।
- डॉ. पमी भारत की सबसे सम्मानित मैक्रोइकोनॉमिक्स प्रोफेसर्स में से एक हैं।
- दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में डायरेक्टर, रिसर्च काउंसिल में चेयरपर्सन और शैक्षणिक गतिविधियों की डीन भी रही हैं।

ईएसी की मेंबर पूनम गुप्ता भी रेस में
- सबसे मजबूत नाम मौजूदा समय में भारत की लीड इकोनॉमिस्‍ट पूनम गुप्ता का नजर आ रहा है।
- मौजूदा समय में जिस तरह से वो सरकार के साथ काम कर रही हैं, सबसे भरोसेमंद वही हैं।
- वह नेशनल इंस्टीट्यूट आफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी में आरबीआई की चेयर प्रोफेसर थीं।
- उन्हें हाल ही में प्रधानमंत्री की पुनर्गठित आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य के तौर पर नियुक्त किया गया है।
- खास बात ये है कि पूनम नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) के महानिदेशक के रूप में पद संभालने वाली पहली महिला हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios