Asianet News HindiAsianet News Hindi

स‍िधिंया ने कहा, दुनि‍या का तीसरा सबसे बड़ा Domestic Aviation Market बना भारत

भारत सरकार (Indian Government) ने 21 अक्टूबर 2016 को क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना (Regional Connectivity Scheme) - उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) की घोषणा की थी। अब तक, 387 मार्गों को जोड़ने की घोषणा की गई है।

Scindia said, India becomes the world's third largest domestic aviation market
Author
New Delhi, First Published Nov 19, 2021, 9:03 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्‍क। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Union Civil Aviation Minister Jyotiraditya Scindia ) ने कहा है कि भारत की एविएशन इंडस्‍ट्री दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा डॉमेस्टिक एवि‍एशन मार्केट (Domestic Aviation Market ) बन गया है। भारत का नंबर अब चीन और अमरीका के बाद है। यह बातें उन्‍होंने विंग्स इंडिया, 2022 (Wings India, 2022)  के उद्घाटन समारोह के दौरान कहीं। विंग्स इंडिया, 2022 भारत का ही नहीं बल्‍क‍ि एश‍िया का सबसे बड़ा इवेंट हैं।

इकोनॉमी को आगे बढ़ाने में मदद
इस मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा क‍ि भारतीय नागरिक उड्डयन उद्योग में पिछले कुछ वर्षों में काफी अच्‍छी तेजी देखने को मि‍ली है। साथ ही देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। यह दुनिया भर से लोगों को भारत में व्यापार और पर्यटन के विशाल अवसरों की खोज करने में सफल रहा है। मंत्री ने कहा कि भारतीय विमानन उद्योग ने दुनिया के सबसे आकर्षक विमानन बाजारों में से एक बनने के लिए कई चुनौतियों का सामना किया है।

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा एविएशन मार्केट
केंद्रीय मंत्री के अनुसार भारत आज संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के बाद तीसरे सबसे बड़े घरेलू यातायात को संभालता है। हम सभी जानते हैं कि इस घनी वैश्विक अर्थव्यवस्था में, हवाई परिवहन देश के परिवहन बुनियादी ढांचे में एक प्रमुख तत्व है और देश के आर्थिक विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

कोविड के दौरान महत्‍वपूर्ण योगदान
केंद्रीय मंत्री ने COVID-19 महामारी के प्रभाव का मुकाबला करने में विमानन उद्योग के समर्थन की सराहना करते हुए कहा कि इसका प्रभाव बहुत अच्छा था क्योंकि इसमें एंजाइम, पीपीई किट, मास्क, दवाएं और कार्गो थे, जिनकी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आवश्यकता थी। उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष -22 की पहली दो तिमाहियों (संयुक्त) के दौरान देश के हवाई अड्डों द्वारा संभाला गया कुल माल ढुलाई पूर्व-महामारी स्तर के 80 फीसदी (अप्रैल-सितंबर, वित्त वर्ष 22 के दौरान 15.36 लाख मीट्रिक टन) से अधिक हो गया है। ताज्‍जुब की बात तो ये है क‍ि दूसरी त‍िमाही में देश कोविड महामारी की दूसरी झेल रहा था।

यह भी पढ़ें:- Petrol-Diesel Price, 19 Nov 2021,15 दिन से पेट्रोल और डीजल नहीं हुआ महंगा, जाानि‍ए अपने महानगर के दाम

आरसीएस योजना में भी तेजी
नागरिक उड्डयन के लाभों को आम लोगों तक पहुंचाने और सस्ती हवाई कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए, भारत सरकार ने 21 अक्टूबर 2016 को क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना (आरसीएस) - उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) की घोषणा की थी। अब तक, 387 मार्गों को जोड़ने की घोषणा की गई है। आरसीएस-उड़ान योजना के तहत 6 हेलीपोर्ट और 2 वाटर एयरोड्रोम सहित 62 हवाई अड्डों को चालू कर दिया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios