करियर डेस्क. बिहार में परीक्षा में फर्जीवाड़े का एक मामला सामने आया है। बिहार होमगार्ड/चालक पदों के लिए हो रही शारीरिक दक्षता परीक्षा के दौरान 16 फर्जी अभ्यर्थियों के पकड़े जाने की खबर है। बताया जा रहा है कि ये सभी अभ्यर्थी किसी और के स्थान पर शारीरिक दक्षता परीक्षा देने आये थे, लेकिन एडमिट कार्ड की जांच के दौरान इस फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया। 

एडमिट कार्ड जांच के दौरान न तो इन अभ्यर्थियों की फोटो का मिलान हो सका, न बायोमेट्रिक अंगूठे के निशान का। इसके बाद केंद्रीय चयन पर्षद सिपाही भर्ती के इंस्पेक्टर की सूचना पर इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और इनसे पूछताछ की जा रही है।

यहां आए पकड़ में

केंद्रीय चयन पर्षद सिपाही भर्ती की ओर से होमगार्ड में चालक के लिए शारीरिक दक्षता परीक्षा का आयोजन किया गया था। इसमें उन्हीं अभ्यर्थियों को बुलाया गया था, जिन्होंने लिखित परीक्षा पास की थी शारीरिक दक्षता परीक्षा गर्दनीबाग इंटर कॉलेज में भी आयोजित की गई थी।

इसी दौरान अभ्यर्थियों की फोटो और बायोमेट्रिक का मिलान कराया गया, जो कई अभ्यर्थियों के अलग पाए गए। यह स्पष्ट हो गया कि यह धोखाधड़ी की जा रही है और वे अभ्यर्थी किसी और के स्थान पर दौड़ लगाने आएं हैं, जिसके बाद पुलिस ने धोखाधड़ी के आरोप में एफआईआर कर इन अभ्यर्थियों को अरेस्ट कर लिया। 

ये हैं पकड़े गए फर्जी अभ्यर्थी

पकड़े फर्जी अभ्यर्थियों में राजकुमार राज, अरविंद कुमार सिंह, प्रेम रंजन, राहुल कुमार, अभिषेक कुमार, नितेश, सतपाल, सरजीत कुमार, टिंकू कुमार, रंधीर कुमार आदि है। ये सभी खगड़िया, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, गया, गोपालगंज, दरभंगा, वैशाली, मधुबनी आदि जिलों के रहने वाले हैं। 

इससे पहले यूपी में भी परीक्षा में धांधली के कई मामले सामने आए थे। बीते दिनों NEEt/ IIT एडमिशन में भी पैसे लेनदेन की कई शिकायतें सामने आई। बहरहाल सरकारी नौकरी के लिए धांधली और फर्जीवाड़े की खबरें बेहद आम हैं।