Asianet News Hindi

10-12 वीं की एग्जाम फीस माफी की अर्जी पर दिल्ली हाई कोर्ट, आप पार्टी और CBSE को दिए ये निर्देश

इस निर्देश के साथ पीठ ने सोशल जूरिस्ट की जनहित याचिका का निस्तारण कर दिया। याचिकाकर्ता ने अदालत से दिल्ली सरकार को अपने विद्यालयों में विद्यार्थियों के सीबीएसई परीक्षा शुल्क का भुगतान करने का निर्देश देने का अनुरोध किया था।

delhi hc said aap govt and cbse take application fee waiver of 10th 12th as a report kpt
Author
New Delhi, First Published Sep 29, 2020, 2:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क. दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को आम आदमी पार्टी (आप) सरकार और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) को महामारी के मद्देनजर वर्तमान अकादमिक सत्र में दसवीं और बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए परीक्षा शुल्क माफ कर देने की मांग संबंधी एक एनजीओ की जनहित याचिका को प्रतिवेदन के रूप में लेने को कहा।

सरकारी नीति के अनुसार निर्णय ले

मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ ने संबंधित प्रशासनों को एनजीओ की याचिका को प्रतिवेदन के रूप में लेने तथा अदालत का आदेश प्राप्त होने पर यथाशीघ्र और निश्चित रूप से तीन सप्ताह के अंदर कानून, नियमों एवं इस मामले के तथ्यों पर लागू सरकारी नीति के अनुसार निर्णय लेने का निर्देश दिया।

सीबीएसई परीक्षा शुल्क का भुगतान करने का निर्देश 

इस निर्देश के साथ पीठ ने सोशल जूरिस्ट की जनहित याचिका का निस्तारण कर दिया। याचिकाकर्ता ने अदालत से दिल्ली सरकार को अपने विद्यालयों में विद्यार्थियों के सीबीएसई परीक्षा शुल्क का भुगतान करने का निर्देश देने का अनुरोध किया था।

शुल्क का भुगतान 1200 से 2500 रूपये प्रति विद्यार्थी है

याचिकाकर्ता के वकील अशोक अग्रवाल ने वीडियो कांफ्रेंस से सुनवाई के दौरान पीठ से कहा कि जिन लोगों के बच्चे सरकारी विद्यालयों में पढ़ते हैं, उनमें से कई ऐसे हैं जिनकी आय पर इस महामारी के चलते बहुत बड़ी मार पड़ी है या उनकी आय का स्रोत बंद हो गया है, ऐसे में उनके लिए परीक्षा शुल्क का भुगतान कर पाना कठिन हो रहा है जो 1200 से 2500 रूपये प्रति विद्यार्थी है।

दिल्ली सरकार विद्यार्थियों का परीक्षा शुल्क बोझ नहीं उठा सकती

दिल्ली सरकार ने अदालत से कहा कि इस साल वह विद्यार्थियों का परीक्षा शुल्क बोझ नहीं उठा सकती है जैसा कि उसने पिछली बार किया था क्योंकि यह 100 करोड़ रूपये से अधिक होता है। उसने कहा कि उसने सीबीएसई को पत्र लिखकर इस साल परीक्षा शुल्क माफ कर देने का आग्रह किया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios