Asianet News HindiAsianet News Hindi

चंद सालों में 13 अरब 5 करोड़ की कंपनी बना दी इस युवक ने, पूरी दुनिया में है नाम

आज टिक टॉक का नाम कौन नहीं जानता। इसकी लॉन्चिंग साल 2017 में हुई थी। इसकी शुरुआत कर चीन की राजधानी बीजिंग के युवा उद्यमी ने एंटरटेनमेंट जगत में एक क्रांति ही कर दी। 

In a few years, this young man made a company of 13 billion 5 crores
Author
New Delhi, First Published Dec 3, 2019, 1:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क। चीन की राजधानी बीजिंग में साल 2012 में झांग यिमिंग नाम के एक नवजवान ने बाइटडांस स्टार्टअप की शुरुआत कर एक ऐप में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल कर कमाल कर दिया। इसके बाद 2017 में उन्होंने टिक टॉक नाम का मोबाइल ऐप लॉन्च किया। वीडियो बनाने वाला यह एंटरटेनमेंट ऐप पूरी दुनिया में इतना पॉपुलर हुआ कि लॉन्चिंग के बाद से इसे 1.5 अरब बार डाउनलोड किया जा चुका है। आज 36 वर्षीय झांग यिमिंग की कुल संपत्ति 13 अरब, 5 करोड़ हो चुकी है। इतनी बड़ी सफलता शायद ही किसी को इतने कम समय में मिली हो। 

झांग ने एक अरब डॉलर का निवेश कर इसी साल लिप-सिंकिंग वीडियो ऐप म्यूजिकल ली का भी अधिग्रहण कर लिया है। इससे टिक टॉक ऐप में कुछ नए फीचर भी जोड़े गए हैं। अब टिक टॉक के जरिए 15 सेकंड से एक मिनट के वीडियो आसानी से बनाए जा सकते हैं। 

झांग यिमिंग का कहना है कि आज की पीढ़ी अपनी भावनाओं व्यक्त करने के लिए इस ऐप का काफी यूज कर रही है। इसके अवाला, यह मनोरंजन का भी एक अच्छा माध्यम है। अब झांग की कंपनी न्यूज एग्रीगेटर और प्रोडक्टिविटी बढ़ाने वाले टूल भी बन रही है। आज झांग चीन के टॉप 20 अमीरों में अपना स्थान रखते हैं। चीन की सरकार के साथ मिल कर झांग अपने देश में नेट पर उपलब्ध कंटेंट के नियंत्रक के रूप में भी काम कर रहे हैं। कंपनी यूजर्स की पसंद के हिसाब से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल कर कंटेंट को और भी बेहतरीन बनाने की कोशिश करते हैं। उन्होंने न्यूज ऐप 'जिनरी टूटिआओ' की भी शुरुआत की है जो काफी पॉपुलर हो चुकी है। 

झांग ने अमेरिका में न्यूज एग्रीगेटर साइट टॉपबज की भी शुरुआत की है। वे इंडोनेशिया के एक न्यूज ऐप बाबे में भी प्रमुख शेयरहोल्डर हैं। फिललहाल टिक टॉक भारत, अमेरिका और इंडोनेशिया में काफी पॉपुलर है। इस पर नग्नता और अश्लीलता दिखाने के आरोप भी लगते रहे हैं। इसीलिए इसे बांग्लादेश में प्रतिबंधित किया गया है। भारत में भी कुछ समय के लिए यह प्रतिबंधित था। झांग का कहना है कि अश्लील सामग्री को सेंसर करने का उन्होंने प्रबंध किया है और इसके लिए काफी स्टाफ बहाल कर रखे हैं। उल्लेखनीय है कि चीन सरकार भी अश्लील सामग्री के विरुद्ध है।   

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios