Asianet News Hindi

Innovative छात्रों ने स्कूल के लिए बनाया 'आयुर्वेदिक सैनिटाइजेशन टनल', एक साथ 12 लोग हो सकेंगे सैनिटाइज

उन्होंने यह भी बताया कि इसका निर्माण स्कूल में टेक्नोलॉजी क्लब की कार्यशाला में टीचर्स की देखरेख में आयुर्वेदिक तेल, मेन्थॉल और थाइम ऑयल के द्वारा किया गया था।

west bengal students created ayurvedic sanitation tunnel for school kpt
Author
Kolkata, First Published Jun 17, 2020, 12:54 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोलकाता. पश्चिम बंगाल के पूर्वी बर्दवान जिले स्थित एक निजी स्कूल के कुछ स्टूडेंट्स ने शैक्षणिक संस्थान में प्रवेश करने वाले लोगों को कीटाणुरहित करने के लिए एक 'आयुर्वेदिक सैनिटाइजेशन टनल' का निर्माण किया है। मंगलवार को मेमरी क्रिस्टल मॉडल स्कूल के एक प्रवक्ता के मुताबिक इस टनल के जरिए एक बार में बारह लोगों को कीटाणुरहित किया जा सकता है।

आयुर्वेदिक तेल का किया इस्तेमाल

उन्होंने यह भी बताया कि इसका निर्माण स्कूल में टेक्नोलॉजी क्लब की कार्यशाला में टीचर्स की देखरेख में आयुर्वेदिक तेल, मेन्थॉल और थाइम ऑयल के द्वारा किया गया था। प्रवक्ता ने कहा कि, "टनल में प्रवेश करने वाले लोगों पर हर्बल कीटाणुनाशक का स्वचालित रूप से छिड़काव होता है।" 

हानिकारक कैमिकल रहित है टर्नल

आमतौर पर, सोडियम हाइपोक्लोराइट का उपयोग कीटाणुनाशक के रूप में किया जाता है। इसकी मदद से बने सैनिटाइजिंग सल्यूशन से मनुष्यों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। इससे पहले कोलकाता के बिड़ला इंडस्ट्रियल एंड टेक्नोलॉजिकल म्यूजियम में आयुर्वेदिक सैनिटाइजेशन टनल स्थापित किया गया था।

(प्रतिकात्मक तस्वीर)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios