Asianet News Hindi

धोनी को गाली देने वाली घटना याद कर बोले आशीष नेहरा, मेरे लिए कोई गर्व की बात नहीं

2005 में धोनी को गाली देने वाले नेहरा को चेन्नई सुपरकिंग्स ने साल 2014 में 2 करोड़ रुपये देकर खरीदा था। इस सीजन में उन्होंने 4 मैचों में 8 विकेट चटकाए थे। अगले साल उनकी किस्मत चमकी और उन्होंने 18 मैचों में 22 विकेट निकाले। इस प्रदर्शन के आधार पर उन्होंने भारतीय टीम में भी जगह बनाई और एशिया कप और T-20 वर्ल्डकप में भी भारत के लिए खेले। 
 

Ashish Nehra said, remembering Dhoni's abusive incident, it is not a proud moment for me kpb
Author
New Delhi, First Published Apr 5, 2020, 2:36 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


नई दिल्ली. टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने धोनी की कप्तानी में कई यादगार मैच खेले हैं। साल 2011 में उन्होंने धोनी की कप्तानी में ही टीम इंडिया को विश्व विजेता बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। इसके बाद 2014 और 2015 IPL में नेहरा चेन्नई के लिए खेले। इसके अलावा 2016 में उन्होंने भारतीय टीम में वापसी की और धोनी के साथ ही एशिया कप और T-20 वर्ल्डकप भी खेले। इस बीच उन्होंने 2005 में हुई एक घटना को याद किया जब उन्होंने धोनी को गाली दे दी थी। 

नेहरा का एक वीडियो अक्सर सोशल मीडिया पर भी सामने आता रहता है, जिसमें वो धोनी को गाली देते दिखाई दे रहे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि यह घटना उनके लिए कोई गर्व की बात नहीं है। 

2005 में पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में हुई थी घटना 
पाकिस्तान के टीम 6 मैचों की वनडे सीरीज के लिए भारत आई हुई थी। सीरीज के 3 मैच हो चुके थे, जिसमें 1 पाकिस्तान ने और 2 भारत ने जीते थे। चौथे मैच में नेहरा ने 9 ओवर की गेंदबाजी की पर कोई विकेट नहीं निकाल सके। इस दौरान एक बार गेंद पाकिस्तानी बल्लेबाज शाहिद अफरीदी के बल्ले का बाहरी किनारा लेते हुए धोनी और पहली स्लिप में खड़े द्रविड़ के बीच से निकल गई, जिसके बाद नेहरा ने धोनी को अपशब्द कहे थे। इस मैच की आखिरी गेंद में भारत को हार का सामना करना पड़ा और यह पाकिस्तान ने बाकी के दोनों मैच भी जीत लिए। 6 मैचों की सीरीज भारत अपने घर में 4-2 से हार गया था। 

धोनी की कप्तानी में नेहरा की वापसी 
2005 में धोनी को गाली देने वाले नेहरा को चेन्नई सुपरकिंग्स ने साल 2014 में 2 करोड़ रुपये देकर खरीदा था। इस सीजन में उन्होंने 4 मैचों में 8 विकेट चटकाए थे। अगले साल उनकी किस्मत चमकी और उन्होंने 18 मैचों में 22 विकेट निकाले। इस प्रदर्शन के आधार पर उन्होंने भारतीय टीम में भी जगह बनाई और एशिया कप और T-20 वर्ल्डकप में भी भारत के लिए खेले। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios