Asianet News HindiAsianet News Hindi

कोच की पहली पुण्यतिथि पर भावुक हुए सचिन, लिखा 'आप हमेशा हमारे दिल में रहेंगे'

दुनिया के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक सचिन तेदुलकर हमेशा ही अपनी कामयाबी का श्रेय कोच को देते हैं। सचिन के कोच रमाकांत आचरेकर मुंबई के शिवाजी पार्क में क्रिकेट कोचिंग देते थे। 

Sachin gets emotional on the first death anniversary of the coach, wrote 'you will always be in our heart' KPB
Author
New Delhi, First Published Jan 2, 2020, 9:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. दुनिया के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक सचिन तेदुलकर हमेशा ही अपनी कामयाबी का श्रेय कोच को देते हैं। सचिन के कोच रमाकांत आचरेकर मुंबई के शिवाजी पार्क में क्रिकेट कोचिंग देते थे। सचिन ने इसी मैदान पर क्रिकेट खेलना सीखा था। रमाकांत आचरेकर का 87 साल की उम्र में निधन हो गया था। अपने कोच की पहली पुण्यतिथि पर सचिन भावुक हो गए। उन्होंने सोशल मीडिया पर फोटो शेयर करते हुए लिखा "आप हमेशा हमारे दिल में रहेंगे आचरेकर सर।"  

सचिन ने अपने कोच को याद करते हुए मराठी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में संदेश लिखा था। सचिन के अलावा उनके पुराने दोस्त विनोद कांबली ने भी रमाकांत आचरेकर को उनकी पुण्यतिथि पर याद किया। कांबली ने भी आचरेकर से ही क्रिकेट का ज्ञान लिया था। कांबाली ने अपने परिवार के साथ आचरेकर की फोटो शेयर करते हुए लिखा "कोई भी आपके जितना शानदार कोच नहीं हो सकता क्योंकि आपने ना सिर्फ क्रिकेट खेलना सिखाया बल्कि जिंदगी जीने की सीख भी दी।"

2010 में मिला था पद्मश्री 
रमाकांत आचरेकर को साल 2010 में पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजा गया था। रमाकांत आचरेकर ने सचिन के अलावा विनोद कांबली, प्रवीण आम्रे, समीर दिघे और बलविंदर सिंह संधू को भी कोचिंग दी थी। सचिन ने अपने कोच को याद करते हुए कहा था "सर मुझे कभी ‘वेल प्लेड’ नहीं कहते थे लेकिन मुझे पता चल जाता था जब मैं मैदान पर अच्छा खेलता था तो सर मुझे भेलपुरी या पानीपुरी खिलाते थे।" 

पिछले साल 2 जनवरी को सचिन के कोच का बीमारियों के चलते निधन हो गया था। कोच के निधन पर सचिन उनके घर गए थे और शव यात्रा में अर्थी को कंधा भी दिया था। आचरेकर ने एक प्रथन श्रेणी मैच भी खेला था। हालांकि, उनको सचिन के कोच के रूप में ज्यादा पहचान मिली है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios