Asianet News HindiAsianet News Hindi

BJP ने दिखाया 12 बागियों को बाहर का रास्ता, रसूखवाले दो नेताओं के नाम भी शामिल 

Gujarat Assembly Election 2022: भाजपा ने गुजरात चुनाव के बीच अपने बागी नेताओं पर बड़ी कार्रवाई की है। पार्टी ने 12 नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाते हुए सस्पेंड कर दिया है। यही नहीं, पार्टी इससे पहले सात और नेताओं को सस्पेंड कर चुकी है। 

Gujarat Assembly Election 2022 bjp suspend 12 leaders in gujarat vidhansabha chunav apa
Author
First Published Nov 23, 2022, 12:52 PM IST

गांधीनगर। Gujarat Assembly Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव के बीच आखिरकार भाजपा को अपनों के खिलाफ सख्त फैसले लेने ही पड़े। पार्टी ने 12 बागियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इनमें दो नेता काफी रसूखवाले भी हैं। ये सभी नेता इस बार चुनाव में टिकट  नहीं मिलने से नाराज थे और विरोध के तौर पर निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में उतर गए थे। भाजपा ने यह कार्रवाई मंगलवार, 22 नवंबर को की है। 

भारतीय जनता पार्टी से अलग होकर अपने ही नेताओं के खिलाफ ताल ठोंकने वाले इन नेताओं को पार्टी ने निलंबित कर दिया है। पार्टी इससे पहले सात और  नेताओं को निलंबित कर चुकी है। पार्टी सूत्रों की मानें तो इस बार चुनाव के बाद 19 नेता अब तक बागी हुए और सभी के खिलाफ कार्रवाई करते पार्टी ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया। 

ये 12 नेता जिन पर कार्रवाई हुई 
भाजपा ने यह कार्रवाई कर विरोध में उतरे बाकी नेताओं को भी चेतावनी दे दी है कि पार्टी लाइन से बाहर गए तो पूरी तरह बाहर कर दिए जाओगे। जिन नेताओं को सस्पेंड किया गया है उनमें पादरा विधानसभा सीट से दिनेश पटेल यानी दीनू मामा, वाघोडिया विधानसभा सीट से मधु श्रीवास्तव, सावली विधानसभा सीट से कुलदीप सिंह राउल, शहेरा विधानसभा सीट से खतुभाई पगी, लूणावदा विधानसभा सीट से एसएम खांट, लूणवादा विधानसभा सीट से ही एक अन्य नेता उदय शाह, उमरेठ विधानसभा सीट से रमेश झाला, खंभाट विधानसभा सीट से अमरशी झाला, बायड विधानसभा सीट से धवल सिंह झाला, खेरालू विधानसभा सीट से रामसिंह शंकर जी ठाकोर, धानेता विधानसभा सीट से मावजी देसाई और डीसा विधानसभा सीट से लेवजी ठाकोर शामिल हैं। 

दीनू और मधु पहुंचा सकते हैं नुकसान! 
इन 12 नेताओं में वैसे तो सभी बड़े नेता रहे हैं, मगर दो नाम ऐसे हैं, जो न सिर्फ रसूखवाले हैं बल्कि, चुनाव में भाजपा को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। इनमें पादरा विधानसभा सीट से दिनेश पटेल यानी दीनू मामा और वलसाड जिले की वाघोडिया विधानसभा सीट से मधु श्रीवास्तव का नाम शामिल है। मधु छह बार से लगतार विधायक हैं और इस बार भी टिकट चाहते थे। 

यह भी पढ़ें- 

काम नहीं आई जादूगरी! गहलोत के बाद कांग्रेस ने पायलट को दी गुजरात में बड़ी जिम्मेदारी, जानिए 4 दिन क्या करेंगे

पंजाब की तर्ज पर गुजरात में भी प्रयोग! जनता बताएगी कौन हो 'आप' का मुख्यमंत्री पद का चेहरा

बहुत हुआ.. इस बार चुनाव आयोग Corona पर भी पड़ेगा भारी, जानिए क्या लिया गजब फैसला

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios