Asianet News HindiAsianet News Hindi

गुजरात चुनावः ओवैसी की सभा में मुस्लिम युवाओं ने लगाए मोदी-मोदी के नारे, दिखाए काले झंडे

गुजरात चुनाव में सूरत में अपने प्रत्याशी के प्रचार में पहुंचे एआईएमआईएम (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) उस वक्त हैरान रह गए। जब मुस्लिम युवकों ने उनका विरोध करते हुए काले झंडे दिखाए और मोदी-मोदी के नारे लगाते हुए वापस जाने के नारे लगाए।
 

gujarat assembly election 2022 muslim voters modi modi slogans at aimim asaduddin owaisi rally kpr
Author
First Published Nov 14, 2022, 6:35 PM IST

अहमदाबाद, गुजरात चुनाव की वोटिंग की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे सभी राजनीतिक दलों का सियासी पारा बढ़ता जा रहा है। सभी पार्टियों के नेता  जोर-शोर से रैलियां करने पहुंच रहे हैं। इसी बीच  AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी गुजरात के दौरे पर पहुंचे। जहां उन्होंने रविवार को सूरत में एक चुनावी सभा को संबोंधित किया। लेकिन इस दौरान मुस्लिम युवकों ने उनका विरोध करते हुए काले झंडे दिखाए। इस दौरान उनके साथ पार्टी के सीनियर नेता और पूर्व विधायक वारिस पठान भी उनके साथ मौजूद थे।

ओवैसी की चुनावी सभा में लगे मोदी-मोदी के नारे
दरअसल, जैसे ही असदुद्दीन ओवैसी चुनावी रैली को संबोंधित करने के लिए सूरत के  रुदरपुरा खाड़ी इलाके में पहुंचे तो  वहां मौजूद कुछ मुस्लिम युवकों ने उनके काफिले का विरोध किया। इसके अलावा जब ओवैसी ने अपना भाषण शुरू किया तो इन मुस्लिमों ने  'मोदी-मोदी' व 'ओवैसी वापस जाओ' के नारे भी लगाए गए। सोशल मीडिया पर इस विरोध का वीडियो भी सामने आया है। जो  काफी वायरल हो रहा है।

 मुस्लिम कार्ड खेलने वाले ओवैसी ने दलित कार्ड खेलना शुरू कर दिया
बता दें कि  गुजरात के सियासी संग्राम की चौंकाने वाली यह तस्वीर उस वक्त ही है जब ओवैसी सूरत विधानसभा इलाके में मुस्लिम बहुल इलाके में अपने प्रत्याशी के प्रचार के लिए पहुंचे थे। उनके बारे में कहा जाता है कि वह जहां भी जाते हैं वहां अपने समर्थकों की भीड़ ले जाते हैं। लेकिन सूरत में तो उल्टा होता दिखाई दिया। क्योंकि मुस्लिम युवकों ने ओवैसी 'वापस जाओ' के नारे लगाए। ओवैसी ने अपना विरोध होता देख मुस्लिम की बजाए भाषण के दौरान दलित कार्ड खेलना शुरू कर दिया। जहां पीएम मोदी का जिक्र करते हुए कहा प्रधानमंत्री हमारे दलितों, आदिवासियों और ओबीसी के खिलाफ हैं। वे वंचितों का अधिकार छीन कर ऊंची जाति के लोगों को दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें-गुजरात चुनाव 2022: हवाई यात्रा पर 100 करोड़ खर्च करेंगे राजनीतिक दल, बेहद खास होगा इस बार इलेक्शन


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios