2017 के मुकाबले दोनों चरणों में कम हुई वोटिंग, जानिए पिछली बार क्या था मतदान का प्रतिशत

| Dec 06 2022, 11:26 AM IST

2017 के मुकाबले दोनों चरणों में कम हुई वोटिंग, जानिए पिछली बार क्या था मतदान का प्रतिशत

सार

Gujarat Assembly Election 2022: दूसरे चरण में 60.94 प्रतिशत वोटिंग हुई। यह 2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव में हुई 70 प्रतिशत वोटिंग से कम थी। पहले चरण में इस बार भी 2017 के मुकाबले साढ़े तीन प्रतिशत कम वोटिंग हुई थी। 

गांधीनगर। Gujarat Assembly Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव में दोनों चरणों की वोटिंग पूरी हो चुकी है और अब रिजल्ट का इंतजार किया जा रहा है। पहले चरण की वोटिंग एक दिसंबर को हुई थी, जबकि दूसरे चरण की वोटिंग 5 दिसंबर को हुई। रिजल्ट 8 दिसंबर को जारी होंगे। पहले चरण में जहां सौराष्ट्र-कच्छ और दक्षिण गुजरात के 19 जिलों की 89 सीट पर वोटिंग हुई थी, वहीं दूसरे चरण में उत्तर और मध्य गुजरात के 14 जिलों की 93 विधानसभा सीट पर वोटिंग हुई। 

चुनाव आयोग के मुताबिक, पहले चरण में 63.31 प्रतिशत वोटिंग हुई, जो पिछले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में हुई 66.75 प्रतिशत वोटिंग से साढ़े तीन प्रतिशत तक कम है। वहीं, दूसरे चरण में 5 दिसंबर को 60.94 प्रतिशत वोटिंग हुई। यह 2017 के विधानसभा चुनाव में 70 प्रतिशत वोटिंग यानी लगभग 9 प्रतिशत तक कम थी। बता दें कि राज्य में कुल 33 जिलों में 182 विधानसभा सीटें हैं, जिन पर दो चरणों में वोटिंग हुई। 

Subscribe to get breaking news alerts

पहले चरण में 339 और दूसरे में 285 निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में थे  
गुजरात विधानसभा में कुल 182 सीट हैं। इस बार 1 दिसंबर को पहले चरण में 89 सीट पर वोटिंग हुई, जबकि दूसरे चरण में 93 विधानसभा सीट पर वोटिंग हुई। पहले चरण में 89 सीट पर 788 उम्मीदवार मैदान में थे। तब 339 निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में थे और 39 राजनीतिक दल मैदान में थे। वहीं, दूसरे चरण में 93 सीट पर 61 राजनीतिक दलों के 833 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें 285 निर्दलीय उम्मीदवार भी शामिल थे। 

बीटीपी 12 और बीएसपी ने 44 सीट पर प्रत्याशी उतारे 

दूसरे चरण में मतदान के लिए 2 करोड़ 51 लाख वोटर्स रजिस्टर्ड थे। इनमें 1 करोड़ 29 लाख पुरूष, जबकि 1 करोड़ 22 लाख महिला वोटर्स थीं। 18 से 19 साल की उम्र वाले 5 लाख 96 हजार वोटर्स थे। चुनाव आयोग की ओर से 14 हजार 975 पोलिंग बूथ बनाए गए थे। 1 लाख 13 हजार कर्मचारियों को तैनात किया गया था। भाजपा और आम आदमी पार्टी ने जहां 93 सीटों पर उम्मीदवार उतारे, वहीं कांग्रेस 90 सीटों पर चुनाव लड़ रही थी, जबकि उसकी सहयोगी पाटी एनसीपी दो सीट पर चुनाव लड़ रही थी। इस चुनाव में कांग्रेस और एनसीपी ने गठबंधन किया था। इसमें कांग्रेस के पास 179 सीट है और एनसीपी को 3 सीट दी गई थी। मगर दरियापुर से एनसीपी उम्मीदवार ने नामांकन दाखिल करने के बाद नाम वापस ले लिया। इससे उसके दो प्रत्याशी ही मैदान में थे। अन्य दलों में भारतीय ट्राइबल पार्टी यानी बीटीपी ने 12 और बहुजन समाज पार्टी यानी बसपा ने 44 सीटों पर प्रत्याशी खड़े किए। 

यह भी पढ़ें- 

काम नहीं आई जादूगरी! गहलोत के बाद कांग्रेस ने पायलट को दी गुजरात में बड़ी जिम्मेदारी, जानिए 4 दिन क्या करेंगे

पंजाब की तर्ज पर गुजरात में भी प्रयोग! जनता बताएगी कौन हो 'आप' का मुख्यमंत्री पद का चेहरा

बहुत हुआ.. इस बार चुनाव आयोग Corona पर भी पड़ेगा भारी, जानिए क्या लिया गजब फैसला

 

Related Stories

Top Stories