Asianet News HindiAsianet News Hindi

BSF जवानों ने लोगों के घर तोड़कर की जमकर मारपीट ? देखिए क्या है सच्चाई

वीडियो मैसेज में दावा किया जा रहा है कि  केंद्र सरकार के अधीन बीएसएफ लोगों का घर खाली करा रहा है। बीएसएफ के जवान सीमावर्ती इलाकों में जमकर तोड़फोड़ कर रहे हैं। निजी चैनल में कुछ पिक्स दिखाकर करके बीएसएफ जवानों पर गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं, देखें इस वायरल खबर की सच्चाई... 
 

BSF jawans broke into people's houses and beat them up see what is the truth
Author
Bhopal, First Published Oct 10, 2021, 4:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। इंटरनेट पर भ्रामक खबरों के जरिए लोगों को डराने की कोशिश की जाती है। ऐसी खबरों से  देश-राज्य-शहरों का माहौल खराब होता है। कुछ गैर जिम्मेदार मीडिया और लोगों द्वारा झूठी खबरों  के जरिए अपनी साइट या चैनल को जल्द प्रसिद्धि दिलाने के लिए कोई भी बड़ी  घटना बिना तथ्यों के पेश कर दी जाती है। एक ही एक घटना कर वायरल की जा रही है। 
हर महीने 2000 रुपए देने की योजना शुरू ! 'प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना' के वायरल मैसेज का देखें सच

वीडियो में किया जा रहा दावा
 इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि  केंद्र सरकार के अधीन बीएसएफ लोगों का घर खाली कर रहा है। बीएसएफ के जवान सीमावर्ती इलाकों में जमकर तोड़फोड़ कर रहे हैं। चैनल में कुछ पिक्स की एडीटिंग करके बीएसएफ जवानों पर गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं।
 
दिग्विजय सिंह को आखिर ये क्या हो गया! अमित शाह और RSS की तारीफ, सुनने वाले भी चौंक गए...

फेक न्यूज को पहचानना जरुरी
 सोशल मीडिया के इस दौर में फेक न्यूज को पहचानना जरुरी है। किसी भी खबर या दावे पर आंख बंद कर भरोसा ना करें, ये खबर झूठी और भ्रामक हो सकती है। दरअसल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कई आसामजिक तत्व भ्रामक जानकारियां शेयर करते हैं, जिससे लोग गुमराह होते हैं।
 
फ्री में Tata Nexon जीतने का मौका ! TATA की 150वीं एनीवर्सरी के वायरल मैसेज का क्या है सच

निजी चैनल का बड़ा दावा
ऐसी ही एक भ्रामक घटना पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर तेजी शेयर की जा रही है, जिसमें "बरक बांग्ला लाइव 24X7" के हवाले से कहा जा रहा है कि असम के करीमगंज जिले में बीएसएफ के अधिकारी वहां के स्थानीय लोगों को मार रहे हैं और उनके घरों को तोड़ रहे हैं।
 
फर्जी और भ्रामक है खबर
हमने जब इसकी पड़ताल की तो पता चला कि असम के करीमगंज जिले में ऐसी एक भी घटना सामने नहीं आई है। हमारी पड़ताल में ये खबर पूरी तरह से भ्रामक और झूठी है।

कांग्रेस ने वीडियो ट्वीट कर कहा- बाल-बाल बची यूपी पुलिस, देखें क्या है वायरल वीडियो का सच

पीआईबी ने भी बताया फेक न्यूज
वहीं सरकारी एजेंसी पीआईबी ने भी अपने फैक्ट चैक में इस जानकारी को फर्जी बताया है। पीआईबी ने अपने ट्विटर अकाउंट में लिखा है कि "बराक बांग्ला लाइव 24X7" द्वारा प्रकाशित एक समाचार रिपोर्ट में @BSF_India कर्मियों द्वारा करीमगंज जिले में घरों को नष्ट करने और नागरिकों की पिटाई के संबंध में कई #भ्रामक दावे किए गए हैं। #पीआईबी फैक्ट चेक:

Several #Misleading claims have been made in a news report published by "Barak Bangla Live 24X7" regarding @BSF_India personnel destroying houses & beating civilians in Karimganj district. #PIBFactCheck:

▶️The news report is far beyond the truth and is unfounded pic.twitter.com/pJhqr2fsmO

नौकरी छूटने पर महिला ने ट्रेक के आगे कूदकर जान देने की कोशिश की, जानें क्या है सच?

निष्कर्ष
एक निजी चैनल द्वारा प्रसारित की जा रही घटना का सच्चाई से कोई वास्ता नहीं है। बीएसएफ ने यहां कोई कार्रवाई नहीं की है। असम के करीमगंज जिले में पूरी तरह शांति है। यहां के लोग पूरी स्वतंत्रता के साथ जीवन जी रहे हैं। हमारी पड़ताल में घर से बेघर करने और मारपीट करने की खबर फर्जी और भ्रामक है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios